Official Love Jihad Poster of Popular Front of India

According to Popular front of india’s claims, it says that it did not create this poster, according to their clarification released on 4th march.

http://popularfrontindia.com/pp/story/derogatory-internet-poster-popular-front-demands-investigation

The poster is therefore withdrawn from the blog. It is quite possible that they had earlier released the poster and now since their posters have been caught, they claim not to have released it in the first place.

It would be good if the government begins an investigation into the activitie of the PFI considering their track record in attacking their opponents physically causing extreme injury.

A Report on Love Jihad by IBN 7 is below.

Also Watch A Debate in English

 

 

About these ads

20 thoughts on “Official Love Jihad Poster of Popular Front of India

  1. Confused Krishna Bhakta in Canada

    Let’s answer Love Jihad with Prem Mahotsava. Mahotsavas for young unmarried men and women to get together and choose for themselves who they want to date.

    Reply
  2. sharif ahmed qadri

    in chand logo ko kartooto ki wajah se islam ko badnaam na karein islam me aise logo ke liye koi choot nahin he or na hi jehad ke naam pe begunahon ko qatl karne ki islam ijazat deta he islam ne hamesha aman or shanti ka pegaam diya he kuch logo ne agar apna raasta alag bana liya he to unse hamara koi wasta nahin he ………aatankwadi sirf aatankwadi he fir chahe wo hare libas me aaye ya bhagwa libas me use sirf atankwadi ki hi nazar se dekha jana chahiye kisi dharm vishesh se nahin joda jana chahiye………………..islam ka prachar jehadiyon ne nahin kiya he…..itihaas gawaah he islam ka prachar soofiyon ne kiya he…..kahin or jane ki zaroorat nahin he hamare desh ko hi le lo yahan par islam kisne felaya ……bila shubaah sarkar gareeb nawaj ajmeri rehamtullah alah ne …….koi batayega ki gareeb nawaj talwar lekar aaye the ya top lekar aaye the ….unhone sirf pegame mohabbat diya he yahi wajaah he ki aaj bhi ajmer shareef me har majhab ke log aqeedat ke fool pesh karne jate hein ……….is se bada saboot or kya ho sakta he …….aaj hamko zaroorat he ek ho jane ki dilo se ek doosre ke liye nafrat ko door karne ki tabhi is aatankwad se humko mukti m il sakti he aatankwad ko aatankwad ki nazar se dekho kisi dharm vishesh se jodkar nahin

    Reply
    1. Kamal

      toh kyon aap ki jamaat ke log inka vidroh nahi karte, inke khilaf nahi bolte, dhyan rahe dost chup rahne ka matlab hai aapki rajamandi.

      Reply
      1. sharif ahmed qadri

        hamari jamat in logo ko kabhi apna nahin manti ye adharmi hein ….pehle adharmi hein fir aatankwadi hum to inko muslim hi nahin mante to razamandi ka to sawal hi nahin uthta……..hum inko wahabi kehte hein or poori duniya me sunni or wahabiyon ke beech bahut nafrat he kyonki ye na sirf insaniyat ke dushman hein ye hamare dharm ke bhi dushman hein …….koi musalman inko achcha nahin janta ……..bhai watan pe jaan hum bhi lutate aaye hein itihas gawah he ………….or jahan tak aise logon ka sawal he to bhai aise log har dharm ka chola pehankar ghoom rahe hein……..ye log kabhi dharmic nahin ho sakte jo begunahon ka khoon bahayein …….agar inko khatam karna he to aaj humko or aapko ek hokar ye jang ladni hogi……….warna agar hum aapas me hi ek doosre se ladte rahe to hum to aapas me hi ladte reh jayenge or ye log apna kaam karte rahenge kabhi hare rang me aakar kabhi kesariya me kabhi …………..

      2. skandaveera

        Agar yeh sach hota tho Owaisi jaise logoun ko Musalmanoun ka vote nahi jhoote milte the. Agar yeh sach hota to jumme jumme pe Masjid se nikalte log patthar phekne nahi chalte hai. Lekin yeh sach nahi jitna aap kehte hai. Jitna Kalam aur RMM jaisoun ko aam musalman se saath milna chahiye, woh ho nahi raha hai… aur jo “chand” log aap kehte hai unhi ke peeche aam musalman ka maddat hai. Afsos ka baat yehi hai.

    1. amar

      it is islam in its RAW form,have no doubts in this respect,it will be at your peril.the first Jehadi was the Founder himself.A RELIGION BORN IN JEHALIYA FOR JAAHILS AND HAVE ALL BASEST MEAN IDEAS.that`s why EACH EVERY TERRORIST IS MUSLIM,tho not all are not so.GO TO THE “HOLY”UNHOLIEST BOOK,HV A TASTE OF TRUTH-VENOM TOXIC HARD

      Reply
  3. john smith

    This is absolute non sense. As a religion, Islam do not need to pay money to spread its message.

    It is the fastest growing religion amidst being hyped as the synonym for terrorism all over the world. I don’t think it achieved this through violence or paying money to covert Non muslim girls to Islam.

    Whoever made this poster is a pathetic looser

    Reply
    1. sanjay rai

      http://www.islamlies.com/

      Islam offers HELL and that is all

      Allah Promised hell for his followers:
      Sura 3:185, “Every soul shall have a taste of death: And only on the Day of Judgment shall you be paid your full recompense. Only he who is saved far from the Fire and admitted to the Garden will have attained the object (of Life): For the life of this world is but goods and chattels of deception.”

      This Suras from Quran very clearly says that after death everyone will go to hell fire then judgment.. When a person went to hell fire then how and why it is possible that he/she can come out from hell fire and go to paradise.. no way.. This verse does not say anything about eternal life. This verse very clearly says that every believer in Allah is tasting death means they did not get the life while Jesus promised eternal life and heaven as we read in

      John 10:10 “The thief does not come except to steal, and to kill, and to destroy. I have come that they may have life, and that they may have it more abundantly.

      And also every soul is going to hell fire till the day of judgment means they are not reaching heaven. So of course Allah promised hell fire for his believers. There is no chance to go to heaven once you go to hell. Jesus can save you when you are still in this world as He said in John 3:15 “that whoever believes in Him should not perish but have eternal life.

      John 3:16 “For God so loved the world that He gave His only begotten Son, that whoever believes in Him should not perish but have everlasting life.

      How a person can save himself/herself from hell fire when he/she is already in hell fire? And this verse says that they will be there till the time of Day of Judgment. Do you think a person who is already in hell will get a seat in heaven after judgment? Judgment is a day when people get their sentence and verdict.. and there are no second chances to “make it to heaven” once you have been cast into hell.

      And he claims all those who don’t follow Islam are going to hell..so according to Muhammad, everyone is going to hell…

      “If anyone desires a religion other than Islam (Submission to Allah), Never will it be accepted of him; and in the Hereafter he will be in the ranks of those who have lost.”(Qur’an 3:85)

      Allah promised hell fire for his followers

      Jesus promised heaven for His followers.

      Yet the Jihad martyrs are pumped up with grand illusions….

      And what reward does Paradise bring to the jihad martyr? He is promised a palace of pearls in which are 70 mansions; inside each mansion are 70 houses and in each house a bed on which are 70 sheets and on each sheet a beautiful virgin. He is assured that he will have the appetite and strength of 100 men for food and sex.

      This is the fantastic dream that is fed to Muslim boys from their childhoods. Satan promised Jesus things similar to these and more, when he tempted Jesus in the desert.

      To a Christian and any other true son or daughter of the true God, these things the Muslim hopes for are loathsome. To a woman it has to be a hell…

      Reply
  4. F.r.Mullick

    It’s Very Bad Plan for Increase Hindu for contempt , but like this plan very regrettable , Who is Defeated near True, He would used
    Like this Plan,

    Reply
  5. vijay singh

    Love jihad is a war against hindu & our country drectly by muslims. so that we should strongly oppose & fight with muslim.
    other wise you should ready for converasation/rape of our daughter/sister or mother.

    jai shri ram
    Lado Hindu veero in shaitano se varna hindu dharam aur hamari behan betiya ko inshaitano se bacha nahi paoge.

    jai shivaji jai bhawani

    Reply
    1. sanjay rai

      इस्लाम समर्थक हिन्दू आचार्य ?

      आजकल प्रचार का जमाना है .और लोग अपना प्रचार करने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपनाते रहते हैं .इसीलिए कुछ मुस्लिम ब्लोगरों ने इस्लाम का प्रचार करने के लिए यही तरकीब अपना रखी है .सब जानते हैं कि अधिकांश हिन्दू संगठन और संस्थाए भी दोगली विचारधारा रखती हैं .और कुछ तथाकथित स्यंभू आचार्य ,और पंडित अपना धर्म बेच चुके है ,और इस्लाम का प्रचार कर रहे है .कुछ दिनों पूर्व ” सनातन धर्म इस्लाम ” (http://sanatan-dharm-islam.blogspot.com/)के नाम से एक ब्लॉग नजर में आया ,जिसमे किसी अहमद पंडित और किसी लक्ष्मी शंकर आचार्य के साथ कुछ अन्य हिन्दू लेखकों ने मिलकरयह सिद्ध करने का प्रयास किया है ,कि इस्लाम एक उदार धर्म है ,इसमें जबरदस्ती नहीं है .यह हरेक व्यक्ति को अपना धर्म पालन करने की अनुमति देता है .इस्लाम की नजर में सभी मनुष्य समान हैं .इस्लाम लोगों में सद्भावना फैलाना चाहता है .आदि ,इन्हीं बातों प्रमाणित करने के लिए इस ब्लॉग में कुरान शरीफ की कुछ आयतें और विडिओ भी दिए गए है .यहाँ पर ब्लॉग में किये गए दावों की दुर्भावना रहित समीक्षा दी जा रही है ,ताकि उन हिन्दू विद्वानों को सटीक उत्तर दिया जा सके .और सत्यासत्य का निर्णय हो सके .देखिये -
      1 – इस्लाम का अर्थ शांति नहीं है .
      अभी तक लोग इसी भ्रम में पड़े हुए हैं ,कि इस्लाम का अर्थ शांति है .और इसलिए इस्लाम शांति का धर्म है .लेकिन इस्लाम का वास्तविक अर्थ शांति नहीं बल्कि समर्पण है .”Islam” does not mean “peace” but “submission”जैसा कि कहा जाता है (“السلام” ولكن “تقديم”استسلاما )इस्लाम शब्द अरबी के तीन अक्षरों (root sīn-lām-mīm (SLM [ س ل م ) से बना है .और कुरान में कई जगह इस्लाम का अर्थ समर्पण ही किया गया है ,सूरा तौबा 9 :29 में इसका अर्थ-
      To surrender -اسلام=Submission बताया है .इसी तरह सूरा आले इमरान 3 :83 में इसका अर्थ अल्लाह का धर्म और सूरा आले इमरान 3 :19 में भी वही अर्थ”islam is surrender to allah ‘s will استسلاما=To surrender ” दिया है .इस्लाम का अर्थ शांति फैलाना कदापि नहीं है .इस शब्द का प्रयोग लोगों को धमकी देकर आत्मसमर्पण (surrender ) करने के लिए किया जाता रहा है ,जो इन हदीसों से सिद्ध होता है .

      “रसूल ने यहूदियों से कहा कि यह सारी जमीन मुसलमानों की है .इसलिए तुम इसे खाली कर दो .और इस्लाम कबूल करो .और खुद को अल्लाह के रसूल के सामने समर्पित कर दो ” बुखारी -जिल्द 9 किताब 92 हदीस 447
      “एक औरत ने रसूल से पूछा कि इस्लाम क्या है ,तो रसूल ने कहा ,सिर्फ अल्लाह की इबादत करना , रोजा रखना ,जकात देना और खुद को अल्लाह की मर्जी के हवाले कर देना “बुखारी -जिल्द 1 किताब 1 हदीस 47
      “रसूल ने Byzantine ईसाई शाशक “हरकल Harcaleius को सन्देश भेजा ,जिसमे कहा कि मैं अल्लाह का रसूल मुहम्मद तुम्हें चेतावनी देता हूँ ,कि अगर तुम अपनी जान बचाना चाहते हो ,तो समर्पण कर दो .और इस्लाम स्वीकार कर लो “बुखारी -जिल्द 4 किताब 52 हदीस 191
      वह इस्लाम भक्त हिन्दू आचार्य बताएं कि क्या इस्लाम का अर्थ समर्पण करना नहीं है ? और इस्लाम के जन्म से लेकर मुसलमान इसी तरह से विश्व में शांति (अशांति ) नहीं फैला रहे हैं ?
      2 -इस्लाम में जबरदस्ती नहीं है
      इन इस्लाम परस्त पंडितों ने जकारिया नायक के सामने मुस्लिमों को खुश करने के लिए यह कह दिया कि इस्लाम में किसी प्रकार की जबरदस्ती नहीं है ,और सबको अपना धर्म पालने की आजादी है .इसके लिए इन लोगों ने कुरान की इन आयतों का हवाला दिया है -
      अ -”दीन (इस्लाम ( में कोई जबरदस्ती नहीं है ” सूरा -बकरा 2 :256
      ब-”तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन और हमारे लिए हमारा दीन “सूरा -काफिरून 109 :6
      बहुत कम लोग यह जानते हैं कि कुरान की सूरतें और आयते घटनाक्रम के अनुसार ( according revelation ) नहीं है .इसलिए इनका सही तात्पर्य और अर्थ समझने के लिए हदीसों का सहारा लेना जरुरी है .पहली आयत 2 :256 यहूदियों से सम्बंधित है .हदीस में कहा है ,
      “अब्दुल्ला इब्न अब्बास ने कहा कि इस्लाम से पहले जिन औरतों के बच्चे नहीं होते थे ,या बार बार मर जाते थे ,वह यहूदियों के मंदिर में जाकर रब्बी के सामने यह मन्नत मांगती थीं ,कि अगर मुझे बच्चा होगा ,या मेरी संतान जीवित रहेगी तो उसे मैं यहूदी बनाकर तुम्हारे हवाले कर दूंगी . मक्का में ऐसे बहुत से बच्चे यहूदियों के पास थे . जब इस्लाम आया तो रसूल ने उन सभी बच्चों को यहूदियों से मुक्त कराया और कहा कि ” दीन ( मान्यता ) में कोई जबरदस्ती नहीं है ”
      अबू दाउद-किताब 14 हदीस 2676
      इसी तरह दूसरी आयत 109 :6 का जवाब उसी सूरा में मिल जाता है ,जिसमे कहा है कि “हे काफिरों मैं उसकी इबादत नहीं करूँगा ,तुम जिसकी इबादत करते हो
      ” सूरा -काफिरून 109 :4 .इसी बात को और स्पष्ट करने के लिए कुरान की इस आयत को पढ़िए जो कहती है कि,
      “और जो लोग इस सच्चे दीन (इस्लाम )को अपना दीन नहीं मानते ,तुम उनसे लड़ो ,यहाँ तक वह अपमानित और विवश होकर जजिया न देने लगें ”
      सूरा- तौबा 9 :29
      अब कोई कैसे मान सकता है ,कि इस्लाम बलपूर्वक नहीं फैलाया गया ,और सबको अपने धर्मों के पालन करने की अनुमति देता है ?
      3 -इस्लाम वैश्विक भाईचारा चाहता है

      वास्तव में इस्लाम ” वैश्विकबंधुत्व “الأخوة العالمية” universal fraternity” नहीं बल्कि ” मुस्लिम भाईचारे “” الاخوان المسلمين” muslim brotherhood की वकालत करता है . जो इन आयतों से स्पष्ट हो जाती है ,जो कहती हैं .
      ” ईमान वाले (मुस्लिम ) तो भाई भाई हैं “सूरा -अल हुजुरात 49 :10
      यही बात इन हदीसों में में साफ तौर से कही गयी है ,कि मुसलमान दुसरे धर्म वालों के भाई या मित्र नहीं हो सकते .हदीस में है ,
      “रसूल ने कहा कि इमान वालों को सिर्फ इमान वालों से ही दोस्ती करना चाहिए “अबू दाउद -किताब 41 हदीस 4815 और 4832
      “रसूल ने कहा हे ईमान वालो तुम मेरे शत्रुओं ( गैर मुस्लिम ) को अपना भाई या दोस्त नहीं समझो ” बुखारी -किताब 59 हदीस 572
      कुरान में गैर मुस्लिमों से दोस्ती न करने का कारण भी दे दिया है और रसूल के स्वभाव के बारे में कहा है कि ,
      “मुहम्मद अल्लाह के ऐसे रसूल हैं ,जो काफिरों के प्रति कठोर और अपने लोगों ( मुसलमानों ) के प्रति अत्यंत दयालु हैं “सूरा -अल फतह 48 :29
      सब जानते हैं कि मुसलमान रसूल का अनुकरण करते हैं ,और जब रसूल ही गैर मुस्लिमों से दोस्ती और भाईचारे को बुरा बताते हों ,तो मुसलमानों क्या मजाल जो हिन्दुओं से दोस्ती कर सकें .यही कारण था कि जब केजरीवाल मौलाना अरशद मदनी के पास दोस्ती के लिए गए तो उनको भगा दिया गया .और अन्ना का आन्दोलन फेल हो गया .( जागरण 28 दिसंबर 2011 )याद रखिये गाँधी ने भी यही किया था .
      4-विधर्मी भटके लोग और जानवर हैं
      आप सोच रहे होंगे कि इस्लाम गैर मुस्लिमों से मित्रता करने का विरोधी क्यों है .क्योंकि इस्लाम कि नजर में सभी गैर मुस्लिम ,जैसे यहूदी ,ईसाई और हिन्दू भटके हुए लोग और कुत्ते ,बन्दर ,सूअर और चूहे की तरह निकृष्ट प्राणी है .यह कुरान की इन आयातों और हदीसों से सिद्ध होता है .जो कहती हैं कि-
      “क्या कभी कोई अँधा और आँखों वाला व्यक्ति बराबर हो सकता है “सूरा -रअद 13 :16
      ” निश्चय ही जमीन पर चलने वाले सभी जीवों में अल्लाह कि नजर सबसे निकृष्ट जीव वह लोग हैं जो इस्लाम नहीं लाते”सूरा-अनफ़ाल 8 :55
      “जो इस्लाम को छोड़कर अपनी ही इच्छा पर चलते हैं ,उनकी मिसाल कुते की तरह है .जो अपनी इच्छा पर चलता है “सूरा-आराफ 7 :176
      “जब वह हमारी बात ( इस्लाम लाओ ) छोड़कर ढिढाई से वही पुराना काम करने लगे ,तो हमने (अल्लाह ) कहा जाओ तुम धिक्कारे हुए बन्दर बन जाओ ”
      सूरा -आराफ़ 7 :166
      “और जब उन लोगों (यहूदी ) हमारे आदेश को नहीं माना तो हमने कहा तुम बन्दर बन जाओ “सूरा -बकरा 2 :65
      “जिन्होंने अल्लाह के आलावा किसी और की इबादत की ,तो उन पर अल्लाह का प्रकोप हुआ .जिस से उन में से बन्दर और सूअर बना दिए गए .
      सूरा -अल मायदा 5 :60 .यही बातें इन हदीसों में दी गयी है -
      ” अबू सईद ने कहा कि रसूल ने कहा “सभी यहूदी और ईसाई भटके हुए लोग है और जानवरों से बदतर है .यह एक दिन गर्त में जा गिरेंगे ”
      बुखारी -जिल्द 4 किताब 56 हदीस 662
      ” अबू हुरैरा ने कहा कि रसूल ने कहा यहूदी चूहों की तरह है ,जब इनको बकरी का दूध दिया जाता है ,तो पी लेते है .लेकिन जब ऊंटनी का दूध दिया जाता है तो इनको कोई स्वाद नहीं आता.यानि तौरेत पढ़ लेते हैं लेकिन कुरान से इकार करते है “सही मुस्लिम किताब 42 हदीस 7135 यही कारन है कि मुसलमान हिन्दू ,ईसाई और यहूदी जैसे जानवरों से दोस्ती नहीं करते हैं .
      5-अल्लाह भटकाता रहे ,और
      लगता है अल्लाह ने जिस दिन कुरान उतारी थी ,उसी दिन से पृथ्वी से काफिरों ( गैर मुस्लिम ) के सफाया की योजना बना रखी थी .कि वह उनको गुमराह करके उनसे गुनाह ,अपराध कराता रहे .फिर जहाँ भी इस्लामी हुकूमत हो जाये वहां जिहादी किसी न किसी बहाने उनको क़त्ल करते रहें .यह बात कुरान कि इन आयतों से स्पष्ट हो जाता है -
      ” यदि अल्लाह चाहता तो सबको एक गिरोह बना देता ( ताकि वह सत्कर्म करते ) लेकिन वह जिसको चाहे गुमराही में डाल देता है ”
      सूरा-अन नह्ल 16 :93
      ” वह लोग बिच में ही डावांडोल रहते हैं ,न इधर के और न उधर के . जिसको चाहे गुमराही में डाल देता है,और जिसे खुद अल्लाह भटका दे उनके लिए कोई रास्ता नहीं रहता “सूरा -अन निसा 4 :143
      “अल्लाह जिसको चाहे उसको भटका देता है ,और जिसको चाहे सन्मार्ग दिखा देता है “सूरा-अल मुदस्सिर 74 :31
      “अल्लाह ने जानबूझ कर उनको सन्मार्ग से भटका दिया है ,और उनके कानों और दिलों पर ठप्पा लगा दिया है “सूरा -अल जसिया 45 :23
      अल्लाह के इस काम में शैतान भी मदद करते रहते हैं .जो इस आयत से पता चलता है .
      “क्या तुम नहीं जानते कि हमने इन काफिरों पर अपने शैतानों को छोड़ रक्खा है ,जो इनको गुमराह करते रहते हैं “सूरा -मरियम 19 :83
      काश वह हिन्दू पंडित जकारिया नायक से पूछते कि ,जब खुद अल्लाह ही शैतान के साथ मिलकर लोगों को गुमराह कराता रहता है ,तो असली अपराधी अल्लाह क्यों नहीं है .फिर गैर मुस्लिमों पर हमले क्यों किये जाते हैं ?जैसा कि आगे बताया गया है -
      6-जिहादी मारते रहें
      क्या इसी को इस्लामी कानून कहते हैं कि ,करे अल्लाह और भरें हिन्दू या गैर मुस्लिम .फिर भी जिहादी अल्लाह की जगह गैर मुस्लिमों पर जिहाद करते रहते हैं .जैसा कि कुरान की इन आयतों में लिखा है ,
      “हे ईमान वालो तुम उन सभी काफिरों से लड़ते रहो जो तुम्हारे आस पास रहते हों “सूरा -तौबा 9 :123
      “जो इमान वाले हैं ,वह हमेशा अल्लाह के लिए लड़ते रहते है “सूरा -निसा 4 :76
      “जहाँ तक हो सके तुम हमेशा सेना और शक्ति तैयार रखो ,और काफिरों को भयभीत करते रहो “सूरा -अनफाल 8 :60
      ” हे नबी तुम काफिरों और मुनाफिकों के साथ सदा जिहाद करो और उन पर सख्ती करते रहो “सूरा -अत तहरिम 66 :9 .और सूरा तौबा 9 :73
      “तुम उनसे इतना लड़ो की वह बाकि न रहें ,और सभी धर्म इस्लाम हो जाएँ “सूरा -अन्फाल 8 :39 और सूरा -बकरा 2 :193
      “हे नबी तुम ईमान वालों को हमेशा लड़ाई करने पर उकसाते रहो “सूरा -अन्फाल 8 :63

      अब पाठकों से विनम्र नवेदन है कि वह पहले ऊपर दिए गए “सनातन धर्म इस्लाम “में दिए गए हिन्दू पंडितों के तर्कों को पढ़े ,फिर निष्पक्ष होकर कुरान की दी गयी आयतों को पढ़ें . फिर अपना निर्णय टिपण्णी के रूप में देने की कृपा करें .अथवा ,प्रथम अनुच्छेद में जिस ब्लॉग का हवाला दिया गया है ,उसमे उन पंडितों और आचार्यों के पते दिए गए हैं ,जो इस्लाम के भक्त है .आप उन से सवाल कर सकते हैं .

      http://www.thereligionofpeace.com/Pages/Quran-Hate.htm

      Reply
  6. Navas

    Whoever prepared this poster is a crazy moron and cannot be considered a mulim believer.
    I have also seen a blog where Popular friend of India press conference denying any involvment whatsoever with this poster.

    Oner thing I am sure, whoever made this does not qualify to be called a muslim and he/they must be a very very bad people. Trying to create communal tension. Pathetic

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s