Tag Archives: IndiaStrikesBack

सन्धि-वचन संपूज्य उसी का जिसमें शक्ति विजय की

Dinkar

So long as you showed forgiveness to the enemy in good faith, 

the wicked Kauravas thought you to be cowards.

The truth is that the effulgence of humility resides in the arrow ( of strength),

Offers of Pacts & treaties are respected only when backed by invincible strength to Win ! 

On a historic day when the news of Bharatiya Vayu Sena ( Bharat’s AirForce) rendered the terrorist launch pads inside PoJK to ashes, the @adgpi tweeted the above lines.

The entire poem of Rashtrakavi Ramdhari Singh ‘Dinkar’ is given below.

 

क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबल
सबका लिया सहारा
पर नर व्याघ्र सुयोधन तुमसे
कहो, कहाँ, कब हारा?

क्षमाशील हो रिपु-समक्ष
तुम हुये विनत जितना ही
दुष्ट कौरवों ने तुमको
कायर समझा उतना ही।

अत्याचार सहन करने का
कुफल यही होता है
पौरुष का आतंक मनुज
कोमल होकर खोता है।

क्षमा शोभती उस भुजंग को
जिसके पास गरल हो
उसको क्या जो दंतहीन
विषरहित, विनीत, सरल हो।

तीन दिवस तक पंथ मांगते
रघुपति सिन्धु किनारे,
बैठे पढ़ते रहे छन्द
अनुनय के प्यारे-प्यारे।

उत्तर में जब एक नाद भी
उठा नहीं सागर से
उठी अधीर धधक पौरुष की
आग राम के शर से।

सिन्धु देह धर त्राहि-त्राहि
करता आ गिरा शरण में
चरण पूज दासता ग्रहण की
बँधा मूढ़ बन्धन में।

सच पूछो, तो शर में ही
बसती है दीप्ति विनय की
सन्धि-वचन संपूज्य उसी का
जिसमें शक्ति विजय की।

सहनशीलता, क्षमा, दया को
तभी पूजता जग है
बल का दर्प चमकता उसके
पीछे जब जगमग है। 

 – रामधारी सिंह दिनकर 

 

Advertisements