Tag Archives: Startups

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 2nd

  1. फातिमा असला को मेडिकल एजुकेशन के लिए अनफिट माना गया लेकिन हार नहीं मानी, आज ये मेडिकल स्टूडेंट हैं, हौसलों के दम पर सपने पूरे कर रही हैं

Key points:

  1. फातिमा असला देश और दुनिया की उन हजारों लड़कियों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो शारीरिक विषमताओं के बाद भी जिंदगी की परेशानियों से जूझते हुए हर हाल में आगे बढ़ रही हैं। इस लड़की के चेहरे की मुस्कान देखकर इसकी तकलीफों का अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। असला की किताब, ‘नीलवु पोल चिरिकुन्ना पेनकुट्टी’ (एक धुंधली मुस्कान वाली लड़की) जल्दी ही रिलीज होने वाली है।
  2. फातिमा के माता-पिता को इस बच्ची की हड्डियों से जुड़ी बीमारी ‘ऑस्टियोजेनेसिस इम्परफेक्टा’ के बारे में डॉक्टरों से तब बताया जब वह महज तीन दिन की थीं। जैसे-जैसे वह बड़ी हुई, उन्हें व्हील चेयर की जरूरत पड़ने लगी। वह पढ़-लिखकर डॉक्टर बनना चाहती थीं ताकि अपनी ही तरह अन्य दिव्यांगों की मदद कर सकें लेकिन मेडिकल बोर्ड ने उन्हें मेडिकल की पढ़ाई के लिए अनफिट करार दिया। फिलहाल वे बीएचएमएस में फाइनल ईयर की स्टूडेंट हैं और अपने सारे सपनों को पूरा करने की जद्दोजहद में लगी हुई हैं।

(Dainik Bhaskar, 2 October 2020) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • [Startup Bharat] How this school dropout is building a Made in India alternative to Adobe Photoshop

Key points:

  1. Rajkot-based Made in India company InsideLogic Software has built AI-based image editing and album designing software. It is targeting Rs 2 crore revenue by 2022.
  2. In Gujarat’s garba capital Rajkot, Aslam Solanki is doing what most Indian entrepreneurs aim to do: thinking local and building global. With a vision to solve issues faced by digital designers, be it photographers, album designers, and graphic designers, Aslam has built automated design solutions.
  3. “We are indirect competitors to Adobe Photoshop. But we are faster, better, and cheaper,” Aslam claims.
  4. In 2000, he started working on building an automated album designing software. In 2016, he incorporated InsideLogic Software and launched the software Album Sense.
  5. For a single user, Album Sense is available for a one-time cost of Rs 5,000. For multiple-user usage, the cost is Rs 7,500. Album Sense boasts more than 10,000 paid users.
  6. According to the bootstrapped company, the customer base has been growing by 20 percent, year on year. Last year’s revenue turnover for InsideLogic was Rs 20 lakh. It is expecting it to grow to Rs 2 crore by 2022, post the launch of Photo Sense.

(Your Story, 2 October) News Link

  • This SaaS startup is gearing up to solve transport woes for logistics businesses

Key points:

  1. Rourkela-based TransportSimple helps logistics businesses manage day-to-day operations such as trip and inventory tracking, maintenance summary, GST compliant accounting modules, and live performance monitoring among others
  2. To provide fleet management services to logistics businesses, Father-son duo Hardeep Singh and Jasdeep Singh launched TransportSimple in 2018.
  3. The SaaS startup helps logistics businesses manage daily operations such as trip, inventory tracking, maintenance and employee summary, GST compliant, and driver performance monitoring among others.
  4. Highlighting the importance of an advanced fleet management system, he says, “the current working way is chaotic, time-consuming, error-prone, and lacks owner visibility. There are multiple false expenses, no scheduled maintenance, no performance tracking, and much more. The industry is dependent on various standalone platforms to manage its business, with no information flow, thus lacking informed decision-making.”

(Your Story, 2 October) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: September 27th 2020

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • Craving gourmet-style coffee at home? This startup is out to make that happen

Key points:

  1. Based in Goa, Coffeeza aims to make gourmet-style accessible at home. It offers coffee blend capsules and coffee machines. The startup plans to diversify the coffee blends and expand to the US this year.
  2. After reaching out to various coffee-producing companies and undertaking a series of tastings, the entrepreneur partnered with select producers across Europe and China who could produce the right blend for Indian taste palate. He zeroed on three regular blends from Italy – Intenso, Classico, and Decaf. Coffeeza also tied up with a factory in China to produce coffee machines.
  3. Today, Rahul says that Coffeeza is a premium brand of single-serve coffee capsules, machines, and accessories that allows customers to indulge in beverages like Espresso, Cappuccino, and Latte.
  4. The B2C startup also plans on exhibiting its products at trade shows to meet potential distributors in the country. The brand’s peers include Nestle’s Nespresso. Rahul believes that with premium branding, products and customer service, the Indian market for coffee lovers is up for grabs.

(Your Story, 27 September) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: September 26th 2020

  1. This fisherman’s son launched a fintech startup amidst the pandemic and clocked transactions worth Rs 1 Cr

Key points:

  1. Chennai-based fintech startup IppoPay is a payments aggregator that enables small businesses, SMEs, freelancers, and homepreneurs in Tier II, III, and rural areas to collect payments with its POS software.
  2. “Ippo in Tamil means NOW. So IppoPay means Pay Now,” says Mohan K, Co-Founder and CEO of Chennai-based IppoPay.
  3. Mohan explains that the fintech platform lets businesses accept payments via its POS software. It also helps businesses to get invoices along with statistics on business, engagement with customers, and more. IppoPay needs no payment terminal, POS, or swiping machine. Merchants can generate QR codes using its mobile app.
  4. “Our platform can also be used to manage subscriptions, automate recurring billing, and get notified for all payment-related activities. There is no setup fee; we have a flat unit pricing model,” Mohan says.
  5. Foloosi enables businesses to get paid using QR code, payment link, or payment gateway without the need of a POS machine.
  6. The Chennai-based entrepreneur says some of the IppoPay’s clients include milk vendors, newspaper boys, chit fund companies, and others in Tier II and III cities in Tamil Nadu.

(Your Story, 26 September) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • Here’s How a Haryana Mom Turned One Hand-Knitted Frock Into a Multi-Crore Startup

Key points:

  • One of the fondest memories from my childhood was sitting next to my grandmothers and learning how to knit and crochet. My grandmothers would gently direct me about the nuanced twists and turns of the yarn and the threads that one was working with. In the end, the result would be a beautiful muffler, a sweater, or a handkerchief with beautiful lace.
  • Starting a children’s apparel business was not a pre-conceived plan but something that took its own course. Tarishi finished her Bachelor’s in Architecture degree from the Government College of Lucknow in 2009. Soon, she applied for a Master’s degree in building engineering and management (MBEM) from the School of Planning and Architecture, New Delhi and passed out in 2011.Tarishi then joined Larsen and Turbo as a senior architect and quit her job when she got married in 2013. She moved to Jaipur with her husband Nivesh and worked with a local architecture firm for two years.
  • Currently, there are frocks of over 250+ designs, 100 sweaters designs, over 150 different kinds of booties, and approx 100 different kinds of caps. Additionally, they also have mufflers and accessories like hair clips, hairbands, ear muffs, and leg warmers. All the products are priced between Rs. 125 to Rs. 1500 which is considerably affordable and this is what attracted a lot of customers.

(The Better India, 26 September) News Link

  • ट्रेन की वेटिंग लिस्ट में फंसे हैं? इस स्टार्टअप से करें संपर्क, मिलेगी कन्फर्म एयर टिकट

Key points:

  1. मुंबई स्थित यह स्टार्टअप ISB से पढ़े रोहन, IIT एलुमनाई वैभव सराफ और IIM एलुमनाई ऋषभ संघवी की मेहनत का नतीजा है। उन्होंने साल 2019 में इसकी नींव रखी और 2020 से यह काम शुरू हुआ। शुरूआती महीनों में ही उनके यहाँ से 100 से भी ज्यादा प्रोटेक्शन पर्चेस हुई और लगभग 60 हज़ार से ज्यादा लोग उनकी वेबसाइट देख चुके हैं। ग्राहकों की परेशानी को हल करने के उद्देश्य से शुरू हुए इस स्टार्टअप को लगभग 700 लाख रुपये की फंडिंग मिल चुकी है। 
  2. अगर चार्ट बनने के बाद भी आपका टिकट कन्फर्म नहीं हुआ है तो रेलोफाई से आपको उतने ही या थोड़े से ज्यादा पैसे में ट्रेन या बस की टिकट उपलब्ध कराई जाती है। इसके लिए आपको ट्रेन की वेटिंग लिस्ट या RAC में टिकट खरीदते समय ही, रेलोफाई पर प्लेन या बस की टिकट भी लॉक करनी पड़ती है। इससे बाद में अगर आपकी ट्रेन टिकट कन्फर्म न हो तो आप कम दाम में ही, जो लॉक करते समय टिकट का दाम था, उसी में प्लेन या बस की टिकट खरीद सकते हैं।
  3. रेलोफाई के इस मॉडल से मुंबई की दीपिका ने लगभग 18 हज़ार रुपये की बचत की। उन्होंने बताया कि उनके परिवार के छह सदस्यों ने लगभग तीन महीने पहले से ही दिल्ली से मुंबई ट्रेन टिकट बुक की थी। लेकिन उनकी टिकट कन्फर्म नहीं हुई। वह आगे कहती हैं कि तत्काल टिकट 4000 हज़ार रुपये की थी और फ्लाइट की टिकट 5000 रुपये की। पर रेलोफाई से उन्हें प्लेन की टिकट 2000 रुपये की पड़ी और तय दिन ही उनके परिवार के सभी सदस्य मुंबई पहुँच गए, वह भी समय से पहले।

(The Better India, 26 September) News Link

  • This fisherman’s son launched a fintech startup amidst the pandemic and clocked transactions worth Rs 1 Cr

Key points:

  1. Chennai-based fintech startup IppoPay is a payments aggregator that enables small businesses, SMEs, freelancers, and homepreneurs in Tier II, III, and rural areas to collect payments with its POS software.
  2. “Ippo in Tamil means NOW. So IppoPay means Pay Now,” says Mohan K, Co-Founder and CEO of Chennai-based IppoPay.
  3. Mohan explains that the fintech platform lets businesses accept payments via its POS software. It also helps businesses to get invoices along with statistics on business, engagement with customers, and more. IppoPay needs no payment terminal, POS, or swiping machine. Merchants can generate QR codes using its mobile app.
  4. “Our platform can also be used to manage subscriptions, automate recurring billing, and get notified for all payment-related activities. There is no setup fee; we have a flat unit pricing model,” Mohan says.
  5. Foloosi enables businesses to get paid using QR code, payment link, or payment gateway without the need of a POS machine.
  6. The Chennai-based entrepreneur says some of the IppoPay’s clients include milk vendors, newspaper boys, chit fund companies, and others in Tier II and III cities in Tamil Nadu.

(Your Story, 26 September) News Link

  1. प्रोजेक्ट साईट से निकली मिट्टी से ईंटें बनाकर, घरों का निर्माण करते हैं ये आर्किटेक्ट

Key points:

  1. बेंगलुरु में ‘बिल्डिंग रिसोर्स हब’ के नाम से अपनी आर्किटेक्चरल फर्म चलाने वाले आशीष भुवन मूल रूप से ओडिशा से हैं। उन्होंने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, त्रिची से अपनी आर्किटेक्चर की डिग्री पूरी की। इसके बाद, उन्हें कई अच्छे प्रोजेक्ट्स पर काम करने का मौका मिला। वह बताते हैं कि उन्होंने अलग-अलग फर्म के साथ काम किया और एक प्रोजेक्ट के दौरान, उन्हें सस्टेनेबल डिज़ाइन और ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर काम करने का मौका मिला।
  2. “मैं चाहता था कि जो लोकल मिस्त्री होते हैं, उन्हें प्रकृति के अनुकूल घर बनाने की समझ आए। लोग इस पर काम करें क्योंकि ज़्यादातर लोगों के घर ये स्थानीय मिस्त्री बनाते हैं। हर कोई किसी आर्किटेक्चरल फर्म के पास अपना घर बनवाने नहीं आता है। इसलिए अगर इन्हें सिखाया जाए तो कोई बात बनें,” उन्होंने आगे बताया।
  3. साल 2018 में उन्होंने अपनी फर्म, बिल्डिंग रिसोर्स हब की शुरुआत की। इसके ज़रिए उनके दो उद्देश्य रहे, एक तो सस्टेनेबल घरों का निर्माण और दूसरा, स्थानीय लोगों को सिखाना। उनके काम में अलग-अलग लोग उनका साथ दे रहे हैं जैसे उनकी साथी आर्किटेक्ट श्रुति मोराबाद। श्रुति कहती हैं कि वह आशीष के साथ पिछले 4 सालों से जुड़ी हुई हैं। इससे पहले वह बेंगलुरु की ही एक दूसरी आर्किटेक्चर फर्म में काम कर रही थी।
  4. आशीष और श्रुति अपने क्लाइंट्स की ज़रूरत को समझते हैं और साथ ही, जहाँ निर्माण करना है, वहाँ के तापमान, जलवायु आदि को ध्यान में रखकर आगे बढ़ते हैं। वह क्लाइंट की ज़रूरत के हिसाब से एक डिज़ाइन तैयार करते हैं लेकिन जैसे-जैसे काम बढ़ता है तो वह साधनों की उपलब्धता के आधार पर भी डिज़ाइन में थोड़ी फेर-बदल करते हैं। अलग-अलग प्रोजेक्ट्स के लिए वह अलग-अलग तकनीक इस्तेमाल करते हैं।

(The Better India, 26 September 2020) News Link

  1. प्रोजेक्ट साईट से निकली मिट्टी से ईंटें बनाकर, घरों का निर्माण करते हैं ये आर्किटेक्ट

Key points:

  1. बेंगलुरु में ‘बिल्डिंग रिसोर्स हब’ के नाम से अपनी आर्किटेक्चरल फर्म चलाने वाले आशीष भुवन मूल रूप से ओडिशा से हैं। उन्होंने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, त्रिची से अपनी आर्किटेक्चर की डिग्री पूरी की। इसके बाद, उन्हें कई अच्छे प्रोजेक्ट्स पर काम करने का मौका मिला। वह बताते हैं कि उन्होंने अलग-अलग फर्म के साथ काम किया और एक प्रोजेक्ट के दौरान, उन्हें सस्टेनेबल डिज़ाइन और ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर काम करने का मौका मिला।
  2. “मैं चाहता था कि जो लोकल मिस्त्री होते हैं, उन्हें प्रकृति के अनुकूल घर बनाने की समझ आए। लोग इस पर काम करें क्योंकि ज़्यादातर लोगों के घर ये स्थानीय मिस्त्री बनाते हैं। हर कोई किसी आर्किटेक्चरल फर्म के पास अपना घर बनवाने नहीं आता है। इसलिए अगर इन्हें सिखाया जाए तो कोई बात बनें,” उन्होंने आगे बताया।
  3. साल 2018 में उन्होंने अपनी फर्म, बिल्डिंग रिसोर्स हब की शुरुआत की। इसके ज़रिए उनके दो उद्देश्य रहे, एक तो सस्टेनेबल घरों का निर्माण और दूसरा, स्थानीय लोगों को सिखाना। उनके काम में अलग-अलग लोग उनका साथ दे रहे हैं जैसे उनकी साथी आर्किटेक्ट श्रुति मोराबाद। श्रुति कहती हैं कि वह आशीष के साथ पिछले 4 सालों से जुड़ी हुई हैं। इससे पहले वह बेंगलुरु की ही एक दूसरी आर्किटेक्चर फर्म में काम कर रही थी।
  4. आशीष और श्रुति अपने क्लाइंट्स की ज़रूरत को समझते हैं और साथ ही, जहाँ निर्माण करना है, वहाँ के तापमान, जलवायु आदि को ध्यान में रखकर आगे बढ़ते हैं। वह क्लाइंट की ज़रूरत के हिसाब से एक डिज़ाइन तैयार करते हैं लेकिन जैसे-जैसे काम बढ़ता है तो वह साधनों की उपलब्धता के आधार पर भी डिज़ाइन में थोड़ी फेर-बदल करते हैं। अलग-अलग प्रोजेक्ट्स के लिए वह अलग-अलग तकनीक इस्तेमाल करते हैं।

(The Better India, 26 September 2020) News Link

  • Self-reliance
    • दिल्ली: व्हीलचेयर पर बैठेबैठे फूलों का सफल व्यवसाय चलातीं हैं यह 80 वर्षीया दादी

Key points:

  1. “लॉकडाउन के पहले ही महीने से मुझे ग्राहकों के फोन आने लगे, उनमें से कुछ लोगों ने बताया कि उदासी भरे समय में फूल ही उन्हें खुशी देते हैं। लोगों के कॉल से मैं काफी उत्साहित हुई और मैंने अपने ग्राहकों को फूल बेचने के साथ ही डिलीवरी सर्विस देनी भी शुरू कर दी।” -स्वदेश चड्ढा
  2. हर हफ्ते रानी Delhi-NCR के कई घरों में लगभग 100 गुच्छे फूल भेजती हैं और यह संख्या लगातार बढ़ रही है।

(The Better India, 26 September 2020) News Link

  • पिता के कैंसर ने किसान को जैविक खेती के लिए किया प्रेरित, सालाना हुआ 27 लाख का फायदा

Key points:

  1. सूरत के रामचंद्र पटेल की जीरो बजट नैचुरल फॉर्मिंग तकनीक से खेती में इनपुट लागत काफी कम हुई और उन्हें रिटर्न को बढ़ाने में मदद मिली। हर साल उन्हें एक एकड़ भूमि से डेढ़ लाख रुपए और 18 एकड़ से 27 लाख रुपये का मुनाफा होता है।
  2. रामचंद्र, मुंबई के अस्पताल में लगभग 13 बार गए और तब जाकर उन्हें डॉक्टरों से अपने पिता की बीमारी का कारण पता चला। उन्हें पता चला कि अच्छी उपज के लिए फसलों पर रसायन और हानिकारक कीटनाशक के छिड़काव के कारण वह कैंसर की चपेट में आए।यह सुनकर रामचंद्र की आंखें खुल गई। उनके पिता ने कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के कारण दम तोड़ दिया लेकिन रामचंद्र ने रासायनिक खेती छोड़कर प्राकृतिक तरीके से खेती करने का फैसला किया। 1991 से उन्होंने गैर-कृषि भूमि के एक प्लॉट पर जीरो बजट नैचुरल फॉर्मिंग (ZBNF) अपनाते हुए काम करना शुरू किया और इसे एक उपजाऊ जमीन में बदल दिया।
  3. रामचंद्र ने द बेटर इंडिया को बताया, “मेरी इनपुट लागत शून्य है। मेरे खेत की मिट्टी काफी उपजाऊ है। जिसमें अधिक पैदावार होती है और मुनाफा भी अधिक होता है। सच कहूँ तो अब मेरा इम्युनिटी सिस्टम पहले से बेहतर हुआ है और अब मैं अपने ग्राहकों को जहर नहीं खिला रहा हूँ।”
  4. रामचंद्र के खेत में केला, हल्दी, गन्ना, अमरूद, लीची, पर्पल यम, पारंपरिक चावल की किस्में, फिंगर बाजरा, गेहूँ आदि फसलें उगायी जाती हैं।

(The Better India, 26 September 2020) News Link

  • गुरुग्राम: जॉब छोड़कर घर से शुरू किया बेकरी बिज़नेस, अब प्रतिदिन कमातीं हैं 10 हज़ार रूपये

Key points:

  1. सोशल मीडिया के जमाने में दुनिया अपनी मुट्ठी में हो गई है। ऐसे में घर से बिजनेस शुरू करना बहुत आसान हो गया है। लेकिन कुछ पल थमकर जरा उस वक्त के बारे में सोचिए और कल्पना कीजिए जब सोशल मीडिया नहीं था। उस वक्त आपके काम को लाइक और शेयर करने वाला कोई नेटवर्क मौजूद नहीं था। ऐसे ही दौर में  गुरुग्राम की रहने वाली इला प्रकाश सिंह ने अपनी बेकरी का काम शुरू किया था।
  2. इला ने लगभग 5,000 रुपये के निवेश से अपना बिजनेश शुरू किया था और आज वह करीब 10,000 रुपये हर दिन कमाती हैं। आज वह केक, कुकीज, चॉकलेट्स, ग्लूटेन फ्री ब्रेड, डेसर्ट, आर्टिसनल ब्रेड जैसे बेकरी प्रोडक्ट की 40 से अधिक किस्में समेत अन्य स्वादिष्ट आइटम जैसे पैटी, स्टफ्ड बन्स, पिज्जा और गिफ्ट हैम्पर की पूरे एनसीआर में डिलीवरी करती हैं। (The Better India, 26 September 2020) News Link
  • प्रोजेक्ट साईट से निकली मिट्टी से ईंटें बनाकर, घरों का निर्माण करते हैं ये आर्किटेक्ट

Key points:

  1. बेंगलुरु में ‘बिल्डिंग रिसोर्स हब’ के नाम से अपनी आर्किटेक्चरल फर्म चलाने वाले आशीष भुवन मूल रूप से ओडिशा से हैं। उन्होंने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, त्रिची से अपनी आर्किटेक्चर की डिग्री पूरी की। इसके बाद, उन्हें कई अच्छे प्रोजेक्ट्स पर काम करने का मौका मिला। वह बताते हैं कि उन्होंने अलग-अलग फर्म के साथ काम किया और एक प्रोजेक्ट के दौरान, उन्हें सस्टेनेबल डिज़ाइन और ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर काम करने का मौका मिला।
  2. “मैं चाहता था कि जो लोकल मिस्त्री होते हैं, उन्हें प्रकृति के अनुकूल घर बनाने की समझ आए। लोग इस पर काम करें क्योंकि ज़्यादातर लोगों के घर ये स्थानीय मिस्त्री बनाते हैं। हर कोई किसी आर्किटेक्चरल फर्म के पास अपना घर बनवाने नहीं आता है। इसलिए अगर इन्हें सिखाया जाए तो कोई बात बनें,” उन्होंने आगे बताया।
  3. साल 2018 में उन्होंने अपनी फर्म, बिल्डिंग रिसोर्स हब की शुरुआत की। इसके ज़रिए उनके दो उद्देश्य रहे, एक तो सस्टेनेबल घरों का निर्माण और दूसरा, स्थानीय लोगों को सिखाना। उनके काम में अलग-अलग लोग उनका साथ दे रहे हैं जैसे उनकी साथी आर्किटेक्ट श्रुति मोराबाद। श्रुति कहती हैं कि वह आशीष के साथ पिछले 4 सालों से जुड़ी हुई हैं। इससे पहले वह बेंगलुरु की ही एक दूसरी आर्किटेक्चर फर्म में काम कर रही थी।
  4. आशीष और श्रुति अपने क्लाइंट्स की ज़रूरत को समझते हैं और साथ ही, जहाँ निर्माण करना है, वहाँ के तापमान, जलवायु आदि को ध्यान में रखकर आगे बढ़ते हैं। वह क्लाइंट की ज़रूरत के हिसाब से एक डिज़ाइन तैयार करते हैं लेकिन जैसे-जैसे काम बढ़ता है तो वह साधनों की उपलब्धता के आधार पर भी डिज़ाइन में थोड़ी फेर-बदल करते हैं। अलग-अलग प्रोजेक्ट्स के लिए वह अलग-अलग तकनीक इस्तेमाल करते हैं।

(The Better India, 26 September 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: September 8th 2020

  1. 14 लाख की नौकरी छोड़, फूलों के कचरे से ईको फ्रेंडली धूपअगरबत्ती बना रहा यह IIT ग्रेजुएट

Key points:

  1. “मैं अपने विदेशी दोस्त को गंगा किनारे घुमाने ले गया। वहाँ नदी फूलों के कचरे की वजह से दूषित थी। दोस्त ने सवाल किया, आप कुछ करते क्यों नहीं? इसके बाद से ही मैं इस विषय पर सोचने लगा और इस फूलों के कचरे के इस्तेमाल का एक स्टार्ट अप शुरू किया।” – अंकित अग्रवाल
  2. अंकित कहते हैं, “जब मैंने 14 लाख की नौकरी छोड़कर अपना स्टार्टअप शुरू करने का फैसला किया तो लोग तरह-तरह की बातें करने लगे। शुरू में परिवार के लोग भी इसे एक अच्छा निर्णय नहीं मान रहे थे। लेकिन मैंने किसी की नहीं सुनी। केवल अपने दिल की मानी। इसके बाद अपने दोस्तों के साथ मिलकर काम शुरू कर दिया। फैसला सही साबित हुआ। आज के वक्त सभी इस फैसले की मिसाल देते हैं। कई जगह स्टार्टअप की कामयाबी की कहानी सुनाने के लिए आमंत्रित भी किया जाता है। मैं सभी से यही कहता हूँ कि दूसरों से पहले आप खुद पर भरोसा करना सीखें।”
  3. अंकित ने अपने स्टार्टअप में महिलाओं को प्राथमिकता दी है। इस वक्त उन्होंने सवा सौ महिलाओं को रोजगार दिया हुआ है। इसके अतिरिक्त आवश्यकता के आधार पर  भी वह लोगों को रोजगार मुहैया कराते हैं। महिलाओं को प्राथमिकता देने की वजह पर अंकित कहते हैं, “महिलाएँ अपेक्षाकृत अपने कार्य में अधिक ईमानदार होती हैं। वह अधिक लगन से कार्य करती हैं। इसके अलावा वह घर-परिवार की धुरी होती हैं। उनके हाथ में पैसा आने से पूरे परिवार को फायदा होता है। वह अपनी इस कवायद को पुख्ता तरीके से आगे बढ़ाने का इरादा रखते हैं।”
    (The Better India, 8 September 2020) News Link
  • चेन्नाई की एक महिला ने महिलाओं के लिए लॉन्च किया भारत का पहला वन स्टॉप फायनेंशियल प्लेटफॉर्म, वे औरतों को वित्तीय रूप से साक्षर बनाना चाहती हैं

Key points:

  1. यह एक वन-स्टॉप डिजिटल फायनेंशियल प्लेटफॉर्म है जो महिलाओं को फायनेंशियल प्राेडक्ट खरीदने में मदद करता है।
  2. निसारी द्वारा इस फर्म के शुरुआती 10 महीने में ही इससे 25,000 महिलाएं जुड़ीं। यहां तक कि कोरोना महामारी के दौरान भी उनकी टीम ने महिलाओं को फायनेंशियल प्लानिंग करने में मदद की है।
  3. फिलहाल निसारी महिलाओं के लिए फायनेंशियल अवेयरनेस वर्कशॉप सीरिज चला रहीं हैं जिन्हें कोरोना की वजह से ऑनलाइन सिखाया जा रहा है।

(Bhaskar, 8 September 2020) News Link

  • From zero to million downloads: How Kaagaz Scanner became an overnight success after Chinese apps ban
    Key points:
  • The 15-day-old scanning app Kaagaz Scanner had garnered a million downloads soon after the ban on 59 Chinese apps, including CamScanner which allows devices to be used as document or image scanners.
  • Ordenado Labs was started in 2019 by Snehanshu Gandhi, Gaurav Shrishrimal, and Tamanjit Bindra.
  • The founders finally had their moment as their efforts were also acknowledged by the Government of India as part of the AatmaNirbhar Bharat App Challenge, where the app was given a special mention in the office apps category.
  • Going forward, the team now wants to nurture Kaagaz Scanner and build a freemium monetisation model. 
    (Your Story, 8 September 2020) News Link
  • This Hyderabad-based edtech startup aims to help students ‘un’school themselves

Key points:

  1. It is a marketplace where industry experts host online courses for students and earn a royalty per sale that is given by the Unschool team. 
  2. Unschool relies on a learning management system that allows coaches (experts) to host their lessons in various formats, and for students to learn and engage with peers and the coaches, as well as apply for internships. Some of the courses on Unschool are on data sciences, AI, coding etc. 
  3. Close to 25 percent of Unschool’s students have been placed in companies for internships.
    The team claims to have 25,000 paid users.
    (Your Story, 8 September 2020) News Link
  • How India Hemp & Co is helping cement country’s budding hemp industry
    Key points:
  • India Hemp & Co was started in 2019 and brings hemp products from the foothills of the Himalayas to the rest of the country.
  • With a laser-sharp focus on sustainability right from sourcing to packaging, the startup sells four simple, clean products — hemp hearts, protein powder, seed trail mix, and hemp oil — on its website.
  • It also retails on six online stores and 14 physical stores, including Organic World and Go Native. In fact, it is in active discussions with Big Basket to stock its products on the platform.
  • In 2019, using personal wealth and raising funds from family members, the sisters started the venture. It is now exploring opportunities with potential investors. Finding the right investor fit, Jayanti says, is important for the startup.
  • Having grown 2.5x in the lockdown (April-June) quarter, and seeing increased B2B demand, India Hemp & Co is in a prime position to capture some of that market share, especially in India, where it is among a handful of first movers in the hemp space.
    (Your Story, 8 September 2020) News Link
  1. कभी फीस के पैसों के लिए सड़कों पर बेचते थे अंडे, आज UPSC की परीक्षा पास कर बने अफसर

Key points:

  1. 1996 में बिहार से दिल्ली आये मनोज अपनी आजीविका चलाने के लिए अंडे व सब्जियाँ बेचा करते थे, लेकिन अपनी मेहनत और सही संगत ने मनोज को फर्श से अर्श तक पहुँचा दिया।
  2. आज मनोज आईओएफएस(IOFS), कोलकाता में असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर तैनात हैं।
  3. मनोज बेशक एक लंबी यात्रा तय कर चुके हैं। लेकिन जब उनसे यह पूछा जाता है कि उन्हें कैसा लगता है तो वह कहते हैं, “केवल मेरी ज़मीन बदली है लेकिन मेरा जमीर अभी भी वही है। मैं अब भी उतनी ही कड़ी मेहनत करता हूँ और प्रभावी तरीके से अपना काम करने की कोशिश करता हूँ। मेरा मानना है कि हर व्यक्ति को अपने संघर्ष को एक अवसर के रूप में देखना चाहिए। सफलता इसी में छिपी है।”

(The Better India, 8 September) News Link

  • Investment in Bharat by US companies
  • Byju’s raises $500 million in new round led by Silver Lake; valuation jumps by $300 million

Key points:

  1. The company has secured another round three months after it secured last round in June from Mary Meeker’s venture capital firm Bond at $10.5 billion valuation. 
  2. According to data from Crunchbase, this is the fifth investment raised by the company in 2020 beginning from $200 million round in January and February each followed by $100 million in June and $122 million in August.
  3. Collectively, the company has raised $1.12 billion this year and $1.6 billion in overall funding across 16 funding rounds since its launch. The new funding round is worth around $500 million even as Byju’s valuation has been slightly marked up to $10.8 billion, a source told Financial Express Online.
  4. The latest round was led by global technology investor Silver Lake while existing investors Tiger Global, General Atlantic and Owl Ventures also pooled capital. 

(Financial Express, 8 September 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: September 7th 2020

Developing PPE kits and testing kits

  • आईआईआईएम जम्मू ने विकसित की कोरोना की सस्ती टेस्टिंग किट, मंजूरी के लिए आईसीएमआर को भेजी

Key points:

  1. कोरोना संक्रमण की जांच अब जल्दी, सटीक और पहले से मौजूद तकनीक के मुकाबले ज्यादा सस्ती होगी। इंडियन इंस्टीट्यूट आफ इंटिग्रेटिव मेडिसिन (आईआईआईएम) जम्मू ने पीसीआर तकनीक के विकल्प के तौर पर आरटी-लैंप (रिवर्स ट्रांसक्रिप्टेस-लूप मीडिएटेड आइसोथर्मल एंप्लीकेशन) टेस्ट किट विकसित की है। 
  2. मंजूरी के लिए टेस्ट किट इंडियन काउंसिल फार मेडिकल रिसर्च को भेज दी गई है। आईआईआईएम जम्मू के निदेशक डॉ. डी श्रीनिवास ने कहा कि इस तकनीक में आरटी-पीसीआर टेस्टिंग किट की तुलना में संवेदनशील मशीन की जरूरत नहीं है। इसी वजह से टेस्टिंग किट सस्ती होगी। हालांकि अभी तक इसका मूल्य तय नहीं किया गया है।
(Amar Ujala, 7 September 2020) News Link

Manufacturing in Bharat by Bhartiya companies

  1. DRDO successfully flight tests hypersonic technology vehicle

Key points:

  1. DRDO on Monday successfully flight tested a Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle (HSTDV), which is an unmanned scramjet vehicle with the ability to travel at six times the speed of sound.
  2. The test was conducted at 11.03 am from Dr A P J Abdul Kalam Launch Complex at Wheeler Island, off the coast of Odisha. 
  3. The scramjets are a variant of air breathing jet engines and have the ability to handle airflows of speeds much higher than the speed of sound. Hypersonic speeds are five times (or more) higher than the speed of sound.
  4. Defence Minister Rajnath Singh tweeted, “The DRDO has, today, successfully tested the Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle using the indigenously developed scramjet propulsion system. With this success, all critical technologies are now established to progress to the next phase.”
  5. The special project of the DRDO consisted of contributions from Armament and Combat Engineering Cluster, the two facilities from Pune which played a role in the development were the High Energy Materials Research Laboratory and the Research & Development Establishment (Engineers).

(Indian Express, 7 September 2020) News Link

  • भारत ने हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी हासिल की; ऐसा करने वाला दुनिया का चौथा देश, 5 साल में देश में ही बनेंगी हाइपरसोनिक मिसाइल

Key points:

  1. भारत ने हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डेमोन्स्ट्रेटर (एचएसटीडीवी) देश में तैयार करने में कामयाबी हासिल की है। इसे डीआरडीओ ने तैयार किया है। 
  2. इससे पहले अमेरिका, रूस और चीन भी यह तकनीक तैयार कर चुके हैं।
  3. ओडिशा के बालासोर स्थित एपीजे अब्दुल कलाम रेंज में सोमवार को इसका परीक्षण सफल रहा। 
  4. सरकारी सूत्रों के मुताबिक, भारत अब अगले पांच साल में हाइपरसोनिक मिसाइल तैयार कर सकेगा। हाइपसोनिक मिसाइलें एक सेकंड में 2 किमी तक वार कर सकती हैं। 
  5. इनकी रफ्तार ध्वनि की रफ्तार से 6 गुना ज्यादा होती है। भारत में तैयार होने वाली हाइपरसोनिक मिसाइलें देश में तैयार की गई स्क्रैमजेट प्रपुल्सन सिस्टम से लैस होंगी।

(Bhaskar, 7 September 2020) News Link

Investment in Bhart by Other countries

  1. भारत को मिला अंतरराष्ट्रीय समर्थन, चीन छोड़कर भारत आईं Apple की आठ फैक्ट्रियां

Key points:

  1. केंद्रीय मंत्री एवं बिहार के पटना साहिब से सांसद रविशंकर प्रसाद ने बिहारी एनआरआइ से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत में कहा कि भारत मैन्युफैक्चरिंग का हब बन रहा है। एपल की आठ फैक्ट्रियां भी चीन छोड़कर भारत आ चुकी हैं।
  2. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चीन के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साहसिक कदम को अमेरिका, ब्रिटेन, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने समर्थन दिया है। 
  3. उन्होंने कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि एपल एक महत्वपूर्ण तरीके से भारत में बदलाव कर रहा है। सैमसंग भारत में पहले ही आ चुका है और आगे भी विस्तार करना चाहता है।  

(Jagran, 7 September 2020) News Link

Startup in Bhrat by Bhartiya

  1. This Bengaluru-based product engineering startup provides workplace safety amid COVID-19

Key points:

  1. The Bengaluru-based product engineering startup Ignitarium Technology Solutions offers a visual AI-based digital adherence platform, FLK-i™ to ensure PPE compliance at the workplace.
  2. Apart from this, the startup also developed Septra, based on audio technologies, which enables contactless operation of equipment and appliances. 
  3. Founded in 2012 by Sanjay Jayakumar, Ramesh Shanmugham, Sujith Mathew, and Sujeeth Joseph, Ignitarium focuses on providing product engineering solutions and services such as semiconductor design, embedded software, multimedia, and artificial intelligence.
  4. Speaking about Septra, he claims that the company completed its first pilot roll-out with a Japanese giant and also has multiple deployments in the pipeline across India, Taiwan, and Germany.
    (Your Story, 7 September 2020) News Link

This social network for movies and shows aggregates 100+ streaming apps and tells you what to watch
Key points:

  • FLYX was born out of serial entrepreneur Shashank Singh’s own confusions over what to watch on OTT — a problem that ails a majority of viewers. 
  • It is a cross-platform aggregator of OTT content on top of a streaming social network that helps viewers discover shows and movies from all major services, including Netflix, Amazon Prime Video, Disney+ Hotstar, Apple TV+, Hulu, Google Play, etc. in an engaging manner. F
  • FLYX’s unique algorithm provides quick and targeted recommendations by weighing users’ individual viewing tastes as well as suggestions offered by their peers and social networks. 
  • In four months, the app has recorded over 45,000 downloads and 35,000 email sign-ups across platforms. Almost 70 percent of its users are from India. 
  • In July, FLYX raised $200,000 in a pre-seed round led by HNIs, including Raj Mishra, Chairman and Founder, AIT Global.
    (Your Story, 7 September 2020) News Link

Ayurveda startup AyuRythm is using tech to offer personalised wellness solution to users
Key points:

  • AyuRythm, a digital personalised wellness solution based on the principles of Ayurveda. The startup is based out of Bengaluru and was founded last year. 
  • The pulse diagnostic test measures the blood flow using the smartphone camera basis finger photo plethysmography principles. 
  • The team has built sets of algorithms to asses Prakriti through a differential diagnosis questionnaire and Vikriti using smartphone camera or wearable sensors
  • AyuRythm primarily operates in the B2C space. It offers freemium content and services as well as gets commissions when the consumer purchases a product. The team is now in pre-revenue stages.  

It is also ready to launch online yoga and meditation plans in partnership with reputed healers from India and abroad.
(Your Story, 7 September 2020) News Link