Rising Bharat National News Feed: October 16th 2020

  1. Quality improvements needed to attract foreign studentsKey points:
  2. If India wants to stop the exodus of its students to other countries and attract foreign students to its higher education institutions, its own institutions must improve quality and infrastructure and enable more opportunities for short-term exchanges to foreign institutions, according to eminent experts from Indian and global academia.
  3. The experts are proposing a preliminary roadmap to prevent talent streaming out of the country and make India attractive to foreign students. The proposals were made at a two-day international webinar on “India: The global destination for higher education: Post-NEP 2020 scenario” – referring to the wide-reaching National Education Policy (NEP) 2020, released in July.

(University World News, 16 October 2020) News Link

  • SDNR Foundation to livestream talk on the NEP by Kasturirangan

Key points:

  • Member of the erstwhile royal family and president of SDNR Foundation Pramoda Devi Wadiyar said, Kasturirangan, also Chancellor of Central University of Rajasthan, will deliver the keynote address on ‘Drawing From India’s Legacies’. Darshan Shankar, founder vice-chancellor of Trans-Disciplinary University (TDU), Yelahanka, Bengaluru, and managing director of Foundation for Revitalisation of Local Health Traditions (FRLHT), founded with Sam Pitroda, former advisor to Prime Minister on Public Information Infrastructure and Innovations, will introduce the keynote speaker.

(Deccan Herald, 16 October 2020) News Link

  • Ram Mandir vyavastha
  1. राममंदिर की नींव की खोदाई के लिए चेन्नई के विशेषज्ञों की रिपोर्ट का इंतजार

Key points:

  1. राममंदिर के लिए नींव शुरू करने के लिए एलएंडटी के इंजीनियरों को आईआईटी चेन्नई के विशेषज्ञों की रिपोर्ट का इंतजार है। रिपोर्ट न आने से गुरुवार से राम मंदिर की नींव खोदाई शुरू नहीं हो सकी, हालांकि ट्रस्ट ने 15 अक्तूबर से राममंदिर के लिए 1200 स्तंभों को गलाने का काम शुरू करने की बात कही थी। इन्हीं स्तंभों पर राममंदिर की आधारशिला रखी जाएगी।
  2. कार्यदायी संस्था एलएंडटी के विशेषज्ञों की मानें तो नींव के फाउंडेशन का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य जून 2021 तय किया गया है। इसके तहत 13 हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल में एक मीटर व्यास के 12 सौ स्तंभ 100 मीटर गहराई में कंक्रीट गलाकर बनाए जाएंगे।
  3. इससे पहले 30 सितंबर तक टेस्ट पाइलिंग के तहत 12 स्तंभ का निर्माण पूरा हो गया है। अब इसकी क्षमता का परीक्षण होना है। कार्यदायी संस्था के सूत्रों का कहना है कि नींव का काम बहुत पेचीदा है, क्योंकि राम मंदिर को हजार साल तक अक्षुण्ण रखने के लिए इसके अनेक तकनीकी पहलुओं का परीक्षण होना है।
  4. ट्रस्टी डॉ.अनिल मिश्र ने बताया कि 10 अक्तूबर को आईआईटी चेन्नई से आई इंजीनियरों की टीम ने टेस्ट पिलर की भार क्षमता की जांच कर ली है। इंजीनियरों की टीम जांच कर चेन्नई लौट गई है। जहां विधिवत जांच के बाद वे अपनी रिपोर्ट सौंपेेंगे। विशेषज्ञों की रिपोर्ट आने व उनकी अनुमति मिलने के बाद ही तुरंत 1200 स्तंभों का निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अभी यह नहीं पता है कि भार क्षमता की रिपोर्ट कब तक आएगी। बताया कि रिपोर्ट न आने के कारण 15 अक्तूबर से पिलर निर्माण का काम शुरू नहीं हो सका है।

(Amar Ujala, 16 October 2020) News Link

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s