Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 8th 2020

  1. रूसी कोरोना वैक्सीन के मेगा ट्रायल से भारत ने कर दिया इनकार, जानिए क्या है वजह

Key points:

  1. भारत ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बड़े पैमाने पर ट्रायल की अनुमति देने से किया इनकार
  2. भारत में इस स्पूतनिक वी की साझेदार डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज लिमिटेड ने मांगी थी अनुमति
  3. सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन ने पहले इसे छोटे स्तर पर ट्रायल करने को कहा है
  4. भारत के इस फैसले के बाद रूस के Sputnik-V वैक्सीन को शुरू करने की तैयारियों को झटका लगा है। रूस किसी ऐसे देश वैक्सीन को अप्रूव करने की कोशिश करने में जुटा था जहां कोरोना के नए केसों की संख्या दुनिया में बहुत ज्यादा हो। माना जा रहा है कि भारत अगले कुछ हफ्तों में कोरोना संक्रमण के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ नंबर वन हो सकता है।

(Navbahrat Times, 8 October, 2020) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • How Gurugram-based CogniAble is using machine learning for early detection of autism spectrum disorder

Key points:

  1. Gurugram-based healthtech startup CogniAble provides two solutions: early automated screening for autism and digital therapy management. The online platform allows people to upload videos of children and get them screened for autism.
  2. Autism spectrum disorder isn’t easy to understand, but depictions in TV and movies have helped familiarise us with the developmental disorder that affects communication and behaviour.
  3. Founded in 2017 by Manu Kohli with his wife Dr Swati Kohli, Dr Prathosh AP and Dr Joshua Pritchard, the startup aims to bring affordability, accessibility and high-quality management to homes across India. Autism can be diagnosed at any age, but it is said to be a “developmental disorder” as symptoms generally appear in the first two years of life. This is why CogniAble is focusing on early detection by providing an online platform where people can upload videos of children and get them screened for autism.
  4. Quoting data from Indian Academy of Pediatrics, Manu says all children should be screened using standardised autism screening tools between 18 and 36 months of age. However, limited health professionals and infrastructure mean several children are diagnosed a year or two late.“CogniAble is an online platform available remotely for early screening and affordable behavioural intervention for autism spectrum disorders,” he says.
  5. The co-founder explains that users can upload videos of children using the mobile application. These are analysed by deep learning models to identify fine motor, gross motor, and complex actions based on a stimulus provided by a caregiver.
  6. After detection of autism, behavioural therapies are key to develop necessary skills promoting school and societal inclusion of children. The platform enables parents, schools, and institutes to get access to integrated assessment and treatment plans at 20 percent lesser costs, the founder claims.

(Your Story, 8 October 2020) News Link

  • Starting with just two clients, B2B SaaS startup Whatfix recorded 300 pc revenue growth in 1 year

Key points:

  1. Sequoia Capital India backed SaaS startup Whatfix works as an interactive guidance platform, helping Fortune 500 companies increase employee productivity.
  2. Khadim Batti and Vara Kumar quit Huawei Telecom in 2011 to build a product that would help SMBs enhance their marketing capabilities. The product SearchEnabler would crawl across interwebs for data points, analyse them, and identify marketing recommendations.
  3. B2B SaaS startup Whatfix provides in-app overlays and guidance for implemented software. It provides services, including product adoption, user onboarding, employee training, self-service support, and performance support using enterprise web applications.
  4. Whatfix claims it has increased employee productivity by 35 percent, reducing training time and costs by 60 percent, reducing employee case tickets by 50 percent, and increasing application data accuracy by 20 percent.
  5. While headquartered in Bengaluru, Whatfix is a global startup, with employees based across multiple continents. The team increased its strength by 45 percent between January and June 2020 and has over 300 employees at present. The startup has offices in San Jose, Atlanta, Cambridge, and Melbourne.
  6. Just over the last year, Whatfix claims to have on-boarded over 100 Fortune 1000 customers. In 2019, it claims to have increased its total revenue by 300 percent.
  7. So far, Whatfix has raised $49.8 million. This year alone, it raised $32 million in its Series C round, led by Sequoia Capital India, with participation from existing investors Eight Roads Ventures, Cisco Investments, and F-Prime Capital.

(Your Story, 8 October 2020) News Link

  • [Startup Bharat] Sambalpur-based hyperlocal startup Homvery aims to be the Urban Company of Odisha

Key points:

  1. Hyperlocal home services startup Homvery connects users with technical experts for home maintenance services. It has seen revenue grow 2.5x amidst the lockdown as home cleaning and disinfection services saw an uptick.
  2. Increased internet penetration and the use of smartphones have increased the demand for online services, and startups such as Dunzo, Urban Company, and Genie are tapping the opportunity. Hyperlocal delivery services generally involve online ordering and delivery of goods and services from mom-and-pop stores.
  3. Homvery, headquartered in Sambalpur, Odisha, aims to tap into the growing hyperlocal delivery market by providing home maintenance services.
  4. “As of now, we have over 50 technicians working with us. We have completed more than 5,000 services till now with 80 percent customer retention rate,” Prahllad claims.
  5. The startup claims to have over 7,000 registered users. “We are valued at Rs 3.51 crore as of September 2020,” he says.
  6. “In the coming five years, we want to create an impact where people say ‘call Homvery’ instead of ‘call technicians’ whenever they need home maintenance services,” Prahllad says.

(Your Story, 8 October 2020) News Link

  • This Startup’s Bio-Digester Helps 5000 Families Give up LPG, Saves 6 Million Trees

Key points:

  1. A large, black, bloated plastic-like bag spreads in the backyard of Kedar Khilare, a farmer from Phaltan, a village about 100 km away from Pune in Maharashtra.Upon a closer look, the bag seems to be filled with air, with pipes connected to one end that lead straight into the kitchen. Occasionally children in the family are seen jumping and playing over it.“It is a biogas plant,” Kedar explains. Thanks to the system, Kedar says that he has stopped buying LPG cylinders for his family for almost two years now.
  2. However, Sistema Bio, a company headquartered in Pune selling innovative biodigesters, conducted a demonstration camp in the village and showed its benefits in 2018.
  3. Piyush Sohani, a manager of the Sistema Bio company, explains, “These biodigesters are made from an industrial geo-membrane, with a lifespan stretching up to 20 years.”

(Your Story, 8 October 2020) News Link

  • दिल्ली निवासी कृतिका सोढ़ी बुनाई को मानती हैं तनाव दूर करने का सबसे अच्छा जरिया, अपनी नानी के साथ शुरू किया गया उनका स्टार्ट अप देश भर में नाम कमा रहा है

Key points:

  1. जब नानी को देखकर कृतिका ने खुद बुनाई सीखी तो उसे इस बात का अहसास हुआ कि यह काम उसके लिए एक थैरेपी की तरह है
  2. पहले आशा पुरी अपने घर के सदस्यों के लिए बुनाई करके सिर्फ एक कुशल गृहिणी कहलाती थीं, वहीं अब कृतिका की समझदारी से एक सफल आंत्रप्रेन्योर कहलाती हैं
  3. कृतिका एमबीए ग्रेजुएट है। नानी के साथ किए गए अपने स्टार्ट अप का नाम उसने ‘विद लव, फ्रॉम ग्रैनी’ रखा है। सोशल मीडिया पर भी इन दोनों की जोड़ी को खूब पसंद किया जा रहा है।

(Dainik Bhaskar, 8 October 2020) News Link

  • झारखंड के छात्र ने बनाया सोशल मीडिया एपइंडो बडी‘, व्हाट्सएपफेसबुक इंस्टाग्राम को देगा टक्कर

Key points:

  1. झारखंड के खूंटी जिले के एक छात्र ने व्हाट्सएप, फेसबुक और इंस्टाग्राम को टक्‍कर देने वाला एप बनाया है। डीएवी स्कूल में कक्षा 11 में पढ़ने वाले छात्र अभिषेक महतो ने ‘मेड इन इंडिया’ सोशल मीडिया एप विकसित किया है, जिसका नाम इंडो बडी है। यह  एप फीचर्स में व्हाट्सएप, फेसबुक और इंस्टाग्राम को मात देता है। यह एप इन तीनों विदेशी एप का कंबाइंड रूप है। केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने इस एप की लांचिंग की है।
  2. लांचिंग के अवसर पर अभिषेक महतो ने ‘इंडो बडी’ सोशल मीडिया एप के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इंडो बडी पर लोग पूरी दुनिया से जुड़ सकेंगे। किसी भी एप को लेकर उसके यूजर की चिंता होती है कि उसकी गोपनीयता बनी रहे। इंडो बडी एप में इसे प्राथमिक चिंता के रूप में समझते हुए उपयोगकर्ता की गोपनीयता के साथ बनाया गया है।
  3. उपयोगकर्ताओं का डेटा भारत में संग्रहीत किया जाता है और उपयोगकर्ता का डेटा उपयोगकर्ता की सहमति के बिना किसी तृतीय पक्ष के साथ कभी साझा नहीं किया जाएगा। इसमें कई तरह के फीचर्स दिए गए हैं, जिससे मैसेजेस, वीडियो को सुरक्षित रख सकते हैं। अभिषेक ने कहा कि इस एप को विकसित करने का मुख्य उद्देश्य भारत को एप के मामले में आत्मनिर्भर बनाना है। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेक इन इंडिया पर जोर दे रहे हैं। इसी के तहत विदेशी एप पर से निर्भरता को कम करने के उद्देश्य से इस एप का निर्माण किया है।

(Dainik Jagran, 8 October 2020) News Link

  1. चाय की दुकान छोड़ शुरू की एलोवेरा की खेती, अब 47 तरह के उत्पाद बनाते हैं राजस्थान के अजय

Key points:

  1. राजस्थान के हनुमानगढ़ जिला के परलीका गाँव में रहने वाले 31 वर्षीय अजय स्वामी पिछले 12 साल से एलोवेरा की खेती कर रहे हैं। खेती करने के साथ -साथ अजय इसकी प्रोसेसिंग भी करते हैं और खुद अपने उत्पाद तैयार करके बाज़ार में बेचते हैं। उनके उत्पाद ‘नैचुरल हेल्थ केयर’ के नाम से लगभग 20 अलग-अलग कंपनियों को जा रहे हैं।
  2. अपनी खेती और प्रोसेसिंग के काम से आज लाखों में कमाने वाले अजय ने कभी अपनी शुरूआत मात्र 10 रुपये दिन की कमाई से की थी। बचपन में ही पिता का साया सिर से उठ गया और विरासत में मिला जीवन का संघर्ष और केवल दो बीघा ज़मीन।
  3. उन्होंने सामान्य पानी की बोतल में एलोवेरा का जूस भरकर बेचना शुरू किया। एक से दो, दो से चार, चार से दस बोतलें तैयार हुईं और ऐसे करते-करते उनका यह प्रोसेसिंग का काम जम गया। उनके उत्पादों को एक-दो कंपनियाँ खरीदने भी लगीं। इसके बाद, उन्होंने अपनी चाय की दुकान बंद करके सिर्फ खेती और प्रोसेसिंग पर ध्यान दिया। अपनी खेती के सिलसिले में कृषि विज्ञान केंद्र भी जाने लगे। यहाँ से भी उन्हें और अलग-अलग उत्पाद जैसे साबुन, क्रीम बनाने के बारे में जानकारी मिली।
  4. एक-एक कदम पर अजय ने दिन-रात मेहनत की। थोड़ी-थोड़ी बचत करके अपनी ज़मीन बढ़ाई और प्रोसेसिंग यूनिट का सेट-अप किया। आज उनके पास लगभग 27 बीघा अपनी ज़मीन है और उनकी प्रोसेसिंग यूनिट से 45 से ज्यादा उत्पाद बन रहे हैं। सफल होने के बावजूद अजय ने अपने उत्पादों में नवाचार करना नहीं छोड़ा। वह बताते हैं कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान भी नए उत्पाद बनाने पर काम किया।
  5. अजय कहते हैं कि पारंपरिक फसलों के साथ किसान छोटे स्तर से इस तरह की अलग औषधीय फसल लगाने की शुरूआत कर सकते हैं। फसल उगाने के साथ-साथ अगर किसान अपने खुद के उत्पाद भी बना लें तो इससे अच्छा कुछ भी नहीं।”

(The Better India, 8 October 2020) News Link

  • कोविड ने छीनी एयरलाइन की नौकरी, पर नहीं मानी हार, घर से शुरू किया फूड डिलीवरी बिज़नेस

Key points:

  1. अपनी कुछ सेविंग और पिता से कर्ज से लेकर राहुल ने एक रसोई घर बनाया। राहुल अपने बंगले के ग्राउंड फ्लोर में रहते हैं, जबकि उनके छत पर दो कमरे बने हुए हैं। इसके एक कमरे में घर के जरूरी सामान रखे गए हैं और दूसरे का इस्तेमाल भंडारण के लिए किया जाता है। राहुल ने यहीं से अपने कारोबार को शुरूआत की।
  2. राहुल ने अपने फूड डिलीवरी सर्विस का नाम ‘शेफ सिटी’ रखा और अगस्त के पहले सप्ताह से सेवाएं शुरू कर दी।.
  3. विमान कंपनियों में काम के दौरान अपने अत्यधिक व्यस्त जीवनचर्या के मुकाबले, इन दिनों राहुल की जिंदगी बिल्कुल अलग है।इस विषय में राहुल बताते हैं, “मैं सुबह 6 बजे उठता हूँ, फिर दौड़ने या साइकिल चलाने जाता हूँ। इसके बाद, किसी दिन सब्जियाँ या अन्य सामग्रियों को खरीदने की जरूरत होती है। फिर 10 बजे तक, मैं खाने को बनाने के लिए सब्जियाँ उबालने, ग्रेवी बनाने आदि का काम पूरा करता हूँ।”राहुल बताते हैं कि उनके पास एक हेल्पर है, जिसे व्यंजनों के बारे में अच्छी जानकारी है और दोनों मिलकर खाना बनाते हैं।
  4. वह बताते हैं, “कभी -कभी तो एक दिन में 20 ऑर्डर तक आ जाते हैं। इनमें से कुछ बैचलर या पेशेवर हमारे नियमित ग्राहक हैं। हमें स्वाद की जरूरतों के अनुसार मशालेदार, वैराईटी के ऑर्डर मिलते हैं।”

(The Better India, 8 October 2020) News Link

  • चेन्नई की निशा रामासामी बच्चों के लिए लकड़ी से बना रही हैं डेवलपमेंटल खिलौने, पांच साल पहले अपनी तीन महीने की बेटी की खातिर शुरू किया था ये काम

Key points:

  1. उनके बनाए प्रोडक्ट अमेजन और फ्लिपकार्ट सहित 20 प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं
  2. फिलहाल निशा के इस स्टार्ट अप से 200 कारीगरों को रोजगार मिल रहा है
  3. तब निशा ने नीम की लकड़ी से शिशु के लिए टीथर और रेटल्स बनाना शुरू किया। निशा के अधिकांश मिलने-जुलने वाले लोग भी पैरेंट्स हैं। उन्हें निशा का ये क्रिएशन बहुत पसंद आया। उन्होंने अपने बच्चों के लिए भी निशा को इसी तरह के खिलौने बनाने के ऑर्डर दिए। यहीं से निशा के फाउंडेशन ‘अरिरो वुडन टॉयज’ की शुरुआत हुई। निशा ने पति वसंत के साथ मिलकर 2018 में इसे शुरू किया।
  4. वहां से लौटने के बाद निशा ने लोकल कारीगरों को खिलौने बनाने से जुड़ी कई बारीकियों को सीखाया। अपने स्टार्ट अप के जरिये निशा नौनिहालों के लिए पजल्स, रेटल्स, टीथर्स, स्लाइडर्स, स्टेप स्टूल और इंडोर जिम एसेसरीज डिजाइन करती हैं। उनके बनाए प्रोडक्ट्स अमेजन और फ्लिपकार्ट सहित 20 प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं। फिलहाल निशा के इस स्टार्ट अप से 200 कारीगरों को रोजगार मिल रहा है।

(Dainik Bhaskar, 8 October 2020) News Link

  • यूट्यूब से आया आइडिया तो पड़ोसियों से उधार लेकर, घर में एक कमरे से शुरू किया मसाला पैकिंग का काम, हर महीने 45 हजार कमाई

Key points:

  1. जयपुर के अमित कुमार ने जब धंधा शुरू करने का सोचा तब जेब में महज दस हजार रुपए थे, कहते हैं, जिनसे पैसे लिए थे, उनके पैसे वापस कर दिए और अब मेरे पास की खुद की मशीनें हैं
  2. अमित के माता-पिता और बेटा भी उनके साथ में काम में हाथ जुटाते हैं, पत्नी घर का कामकाज करती हैं, मां ब्लिस्टर में मटेरियल भरतीं हैं, अमित मशीन में उसे पैक करते हैं, बेटा पैकेट एक जगह पर रखता है

(Dainik Bhaskar, 8 October 2020) News Link

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s