Tag Archives: Rising India

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 27th 2020

  • Self-reliance
  1. बेकार बर्तनों से लेकर पुरानी जींस को बनाया गमला, छत पर 150+ पौधों की करतीं हैं खेती

Key points:

  1. गुड़गाँव में रहने वाली अनामिका ने बागवानी की शुरुआत 3 साल पहले की थी। लेकिन, पहली बार में अधिकांश पौधे सूख गए। इसके बाद उन्होंने यूट्यूब से जानकारी हासिल कर, फिर से पहल शुरू की। आज वह अपने घर में बेकार बर्तनों से लेकर पुराने जींस तक में, 150+ पौधों की टेरेस गार्डनिंग करती हैं।
  2. आज देश के अधिकांश शहरों में रहने वाले लोग प्रदूषण की समस्या से जूझ रहे हैं। इसकी एक बड़ी वजह पेड़-पौधों की अंधाधुंध कटाई भी है। हम सब हरियाली से दूर होते जा रहे हैं। ऐसी स्थिति में हम सभी का दायित्व बनता है कि घर में छोटे से छोटे स्तर पर भी बागवानी करें। आज हम आपको गुड़गाँव एक ऐसी ही महिला से मुलाकात करवाने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी छत को गार्डन का रूप दे दिया है।
  3. एक प्राइवेट स्कूल में शिक्षिका रहीं अनामिका को बचपन से ही बागवानी का शौक था, लेकिन पहले वह जहाँ रहती थीं, वहाँ बागवानी के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी। लेकिन, 3 साल पहले जैसे ही वह गुड़गाँव स्थित अपने नए घर में रहने के लिए गईं, उन्होंने बागवानी शुरू कर दी।
  4. वह आगे बताती हैं, “हमारे आस-पास की मिट्टी बागवानी के लिए उपयुक्त नहीं है, इस वजह से शुरूआती दिनों में मेरे पौधे सूख गए। बाद में, मैंने बाजार से वर्मी कम्पोस्ट खरीद कर इसे मिट्टी में मिलाया। इसके साथ ही मैं बागवानी में किचन वेस्ट का भी इस्तेमाल करने लगी। नतीजन, मिट्टी की उर्वरा शक्ति में काफी बढ़ोत्तरी हुई। फिर, धीरे-धीरे मैंने अपने बगीचे में पौधों को बढ़ाना शुरू किया। आज मेरे पास आम, अनार, नींबू, इमली, लेमनग्रास, पीपल जैसे कई पौधे हैं। इसके साथ ही, मैं अपने बगीचे में लौकी, करेला, खरबूजा जैसे कई सब्जियों की भी जैविक खेती करती हूँ। इससे मेरी बाजार पर निर्भरता थोड़ी कम हो गई है।”

(The Better India, 27 October 2020) News Link

  1. मात्र 300 रुपए में बनी इस व्हीलचेयर से कहीं भी जा सकते हैं दिव्यांग स्ट्रीट डॉग

Key points:

  1. राजस्थान के बीकानेर में रहने वाले लक्ष्मण मोदी पिछले कई वर्षों से समाज सेवा से जुड़े हुए हैं। ज़रुरतमंद बच्चों की शिक्षा से लेकर पर्यावरण और जीव-जंतुओं के प्रति वह काफी सजग हैं। इन दिनों वह एक व्हीलचेयर को लेकर सुर्खियों में हैं, जिसे उन्होंने खासतौर पर एक कुत्ते के लिए बनाया है।
  2. पर्यावरण और जीव-जंतु प्रेमी लक्ष्मण ने हाल ही में एक दिव्यांग कुत्ते के लिए सस्ती और आरामदायक व्हीलचेयर बनायी है जिससे यह कुत्ता कहीं भी आ-जा सकता है।
  3. लक्ष्मण ने द बेटर इंडिया को बताया, “जिस स्ट्रीट डॉग के लिए मैंने यह व्हील चेयर बनाया है, कुछ समय पहले वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। मैं उसे तुरंत शहर के पशु अस्पताल लेकर गया। वहाँ उसकी जान तो बच गई लेकिन उसके पिछले दोनों पैर खराब हो गए।”
  4. पीवीसी पाइप का बिज़नेस करने वाले लक्ष्मण हमेशा से ही स्ट्रीट डॉग्स के प्रति काफी संवेदनशील रहे हैं। उन्हें जब भी गली-मोहल्ले में कोई बेसहारा पशु दिखता है तो वह तुरंत उसकी मदद करते हैं। कई बार बीमार होने पर उन्होंने जानवरों को अस्पताल पहुँचाया है और कई स्ट्रीट डॉग्स को उनके घर में भी पनाह मिली है।
  5. लक्ष्मण ने 6 फीट पीवीसी पाइप, चार एल्बो, 4 टी, 2 एंड कैप और बच्चों की साइकिल के पहिए लिए। उन्होंने 2-3 प्रयासों में अपने कुत्ते के लिए व्हीलचेयर बनाकर तैयार की। इस दौरान उन्होंने पशु अस्पताल के डॉक्टरों से भी बात की। यह व्हीलचेयर वजन में बहुत ही हल्का है और इसलिए स्ट्रीट डॉग को कोई परेशानी नहीं होती है।

(The Better India, 27 October 2020) News Link

  • Investment in Bharat by other countries
  1. [Funding alert] GetVantage raises $5M in seed round led by Chiratae Ventures and Dream Incubator

Key points:

  1. GetVantage, a fintech platform pioneering revenue-based financing, will use the funding to empower India’s young ecommerce brands and burgeoning D2C sector and help them achieve their scale and profitability targets sustainably.
  2. GetVantage, a Mumbai-based fintech platform pioneering revenue-based financing (RBF) for ecommerce and online businesses across India and Southeast Asia, on Tuesday announced that it had raised $5 million in a seed round.

(Your Story, 27 October 2020) News Link

  • Investment in Bharat by US companies
    • [Funding alert] B2B retail tech startup Arzooo raises $7.5M in Series A led by US-based WRVI Capital

Key points:

  1. According to the company statement, the retail firm will leverage the fresh funds for tech-upgradation and market expansion.
  2. Bangaluru-based B2B Retail-tech firm Arzooo on Tuesday announced that it has raised $7.5 million in Series A funding led by WRVI Capital. Existing investors 3Lines Venture Capital, a US-based investor, and Jabbar Internet of UAE also participated in the current round.

(Your Story,27 October 2020) News Link

  • [Funding alert] Video creation platform InVideo raises $15M in Series A led by Sequoia Capital India

Key points:

  1. Mumbai-based video creation platform InVideo founder says capital injection will allow the startup to continue its mission to build a world-class technology solution, expand at scale, and help more individuals and businesses create unique videos.
  2. InVideo, the Mumbai-headquartered video creation platform that allows users to create high quality videos for any form of digital media, has raised a $15 million Series A funding round led by Sequoia Capital India. The round also saw participation from Tiger Global, Hummingbird, RTP Global, and Base Ventures.

(Your Story,27 October 2020) News Link

  1. Meet the octogenarian doctor, selflessly treating patients in rural Maharashtra

Key points:

  1. For the last 60 years, 87-year-old homeopath, Ramchandra Dandekar has been travelling to the most remote villages to provide medical assistance and healthcare.
  2. “Chandrapur is a remote and highly dense forest area, with many localities where a bus cannot go. Therefore, bicycle or walking are the only options to reach the faraway hamlets and treat the people. In the pandemic times, too, many people could not afford to go to hospitals. So, I decided to treat them at home,” Ramchandra told
  3. The octogenarian has a diploma in homoeopathy and worked as a lecturer for a year before one of his acquaintances asked him to work in the rural areas of India. He’s been selflessly serving them ever since.

(Your Story, 27 October 2020) News Link

  • Meet Kumari Shibulal, who is helping thousands of underprivileged children across India realise their dreams

Key points:

  1. Founded in 1999, Shibulal Family Philanthropic Initiatives’ flagship programme Vidyadhan has enabled more than 17,000 students to uplift their family members from poverty.
  2. Manoj Kumar KV is an MBBS graduate and one among the frontline workers of COVID-19, interning as a doctor at the Gadag District hospital in Karnataka. He was raised by his mother who worked as an agricultural labourer after he lost his father in an accident.  His determination to become a doctor was steadfast since he was a young boy. At 14, Manoj survived a life-threatening health condition that further fuelled his resolve. However, it would have been difficult to realise his dream without the support from Vidyadhan, a scholarship programme for higher studies from the Shibulal Family Philanthropic Initiatives.  He is among 30,000 applicants in need of funds for higher studies from which 1,000 get selected.
  3. The idea, she says, is to help children from underprivileged backgrounds pursue a holistic education that will enable them to help their communities as well. The philanthropic organisation also initiated Ankur, a student residential scholarship at Samhita Academy, a CBSE-affiliated school with campuses in Bengaluru and Coimbatore.

(Your Story, 27 October 2020) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
  1. RAISE 2020: This startup aims to make India’s EV sector aatmanirbhar by using AI to repurpose Li-ion batteries

Key points:

  1. Delhi-based startup Ziptrax Cleantech leverages AI to repurpose discarded Li-ion batteries and manufactures battery packs for electric two and three-wheeler vehicles.
  2. “If you talk about parameters such as waves, energy, density, or size, Li-ion batteries are much better than lead-acid ones. However, lead-acid batteries will continue to have a substantial market share because of their price,” says Rohan Singh, Co-founder of Ziptrax Cleantech — an electric cell repurposing startup.
  3. For this reason, Ziptrax Cleantech leverages artificial intelligence (AI) to repurpose discarded Li-ion batteries. as well as manufactures battery packs for electric two and three-wheeler vehicles.
  4. Ziptrax was founded by Rohan Singh Bais and Sonia Singh in December 2016, while the third co-founder, Ankur Tyagi, joined the team in 2018.Gopalakrishnan, Co-founder, GramworkX.

(Your Story, 27 October 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 28th 2020

  • Startup in Bharat by Bhartiya
  1. Home Chefs Are Earning upto a Lakh a Month, Thanks to This Noida Startup

Key points:

  1. After Monika Chhatwal’s husband passed away earlier this year, the financial burden of running the home entirely fell on her. With two children in the house, she had to find a stable livelihood.
  2. So, she gave up her dream of opening a restaurant. But she still wanted to cook. So she looked for opportunities to sell food from her own kitchen in Noida.
  3. But how could one start collecting orders other than through social media? Like so many of us, Monika could not build an app, or spend all her time marketing herself. She could cook for sure. But needed a place to sell – digitally.
  4. Monika found her opportunity via ‘Homefoodi’ in February. Homefoodi is an app where customers can directly order from home chefs. And thus Monika began her entrepreneurial journey with ‘Monika Kitchen’.
  5. She started with a few orders, and the response has been overwhelming. “Dahi Bhalla, Pav Bhaaji and Biryanis are our popular food items. It is very encouraging to see 362 reviews and 685 likes for our ‘Kitchen’ on the app. We deliver to social gatherings and corporate functions as well, which makes our monthly earnings touch almost a lakh,” says Harshita, Monika’s daughter.

(Your Story, 28 October 2020) News Link

  • [RAISE 2020] This AI-powered startup offers accurate, contextual translations in 22 Indian languages

Key points:

  1. Delhi-based AI startup Devnagri is a human translation platform that combines neural machine translation and machine learning with human intervention to provide efficient and accurate services. It has more than 5,000 translators who work in 22 Indian languages.
  2. Inspired by the versatility and diversity of the script and the many Indian languages that use it, Himanshu Sharma and Nakul Kundra founded AI-powered startup Devnagri
  3. The founder claims that Devnagri is at least 10 times more efficient and accurate than other translation platforms, due to the human intervention in the translation processes. The bootstrapped startup was awarded the Best Emerging Portal For Translation & Localisation Services 2019 – INDIA by Business Mint in 2019. In 2020, Devnagri was selected in the Special Category at RAISE 2020, India’s biggest AI Solution Challenge for Indian startups, in the Natural Language Processing (NLP) category.
  4. All data is fed into the platform, which provides a rough translation of the content. The platform uses an end-to-end open-source machine learning by Google called TensorFlow, used for NLP. Devnagri has built its own proprietary translation engine using TensorFlow.

(Your Story, 28 October 2020) News Link

  1. भारतीय रेलवे: सौर ऊर्जा से बदल रहे हैं तस्वीर, 960 स्टेशन पर लगे सोलर पैनल

Key points:

  1. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भारतीय रेलवे विश्व के सबसे बड़े रेलवे नेटवर्क्स में से एक है। भारतीय रेलवे 68 हज़ार किलोमीटर से भी ज्यादा लम्बे ट्रैक्स के जरिए हर साल लगभग 8 बिलियन यात्रियों को सुविधा दे रहा है। आने वाले समय में यह आंकड़ा और भी बढ़ेगा।
  2. हर दिन लाखों की संख्या में यात्रियों को अपने गन्तव्य तक पहुँचाने वाले इस रेलवे नेटवर्क को चलने के लिए बहुत ज्यादा ऊर्जा की ज़रूरत होती है। भारतीय रेलवे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फ़िलहाल, रेलवे की वार्षिक ऊर्जा जरूरत 20 अरब यूनिट की है। इस ऊर्जा की आपूर्ति के लिए रेलवे अनवीकरणीय स्रोतों पर निर्भर है। हालांकि, पिछले कुछ सालों में लगभग 50% रेलवे को बिजली से जोड़ा गया है। आने वाले समय में बाकी रेलवे को भी बिजली से जोड़ा जाएगा।
  3. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव कहते हैं, “आर्थिक विकास और खपत में हुई बढ़ोतरी के चलते साधनों की मांग भी बढ़ी है। लेकिन सस्टेनेबिलिटी के लिए ज़रूरी है कि हम आर्थिक विकास के साथ-साथ पर्यावरण के मुद्दों पर भी ध्यान दें।”
  4. गौरतलब है कि कार्बन उत्सर्जन क्लाइमेट चेंज में अहम भूमिका निभाता है, जिसमें भारत के परिवहन क्षेत्र का लगभग 12% योगदान है। इस 12% में से 4% भाग सिर्फ भारतीय रेलवे का है और इसलिए ही, भारतीय रेलवे खुद को पूर्ण रूप से ग्रीन एनर्जी से चलाना चाहता है। इससे रेलवे पर्यावरण के लिए हानि का कारण नहीं होगी और साथ ही, आत्म-निर्भर बनेगी। (The Better India, 28 October 2020) News Link
  • लॉकडाउन में अपने खेतों पर जाना हुआ मुश्किल तो किसान ने शहर की खाली ज़मीनों को बना दिया खेत

Key points:

  • देश के किसी भी शहर में आप जाएंगे तो आपको ऐसी कोई न कोई जगह जरूर दिख जाएगी, जहाँ कूड़ा-कचरा का अंबार लगा रहता है। लेकिन क्या कभी आपने ऐसे शख्स के बारे में सुना है जो ऐसी जगहों को साफ कर वहाँ सब्जी उगा रहा हो, वह भी जैविक तरीके से? आज द बेटर इंडिया आपको एक ऐसे ही शख्स की कहानी सुनाने जा रहा है।
  • केरल के कोची में रहने वाले 46 वर्षीय जैविक किसान एंथनी के. ए. शहर में सालों से खाली पड़ी या फिर कूड़ा-कचरा इकट्ठा करने के लिए इस्तेमाल की जा रही ज़मीनों पर तरह-तरह की सब्ज़ियां उगा रहे हैं। लॉकडाउन के दौरान उन्होंने इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया और अब तक वह दो फसलें ले चुके हैं।
  • 12वीं कक्षा तक पढ़े एंथनी पिछले 10 सालों से अलग-अलग जगह पर जैविक खेती कर रहे हैं और इसके साथ ही वह एक ऑर्गेनिक स्टोर भी चलाते हैं।
  • अपने इस सफर के बारे में एंथनी ने द बेटर इंडिया को बताया, “मेरे परिवार का पुश्तैनी काम खेती ही था। एक वक़्त ऐसा भी आया जब मुझे खेती घाटे का सौदा लगने लगा और मैं अलग-अलग तरह के बिज़नेस में अपना हाथ आजमाने लगा। लेकिन वक़्त के साथ मुझे समझ में आ गया कि खेती पर ही ध्यान देना चाहिए। साथ ही, खेती के प्रति लोगों का नजरिया भी बदल रहा था। मुझे बहुत से लोगों से जैविक खेती के बारे में जानने को मिला। मैंने एक-दो किसानों से इसके बारे में बातचीत की और समझने की कोशिश की। फिर मुझे ऑर्गेनिक खेती पर होने वाले कोर्स के बारे में पता चला।”

(The Better India, 28 October 2020) News Link

  • अनोखे अंदाज में खेती कर परंपरागत खेती के मुकाबले 4 गुना अधिक कमाता है यूपी का यह किसान

Key points:

  1. यह कहानी उत्तर प्रदेश के शामली जिला के नग्गल गाँव में रहने वाले श्याम सिंह की है, जिन्होंने शिक्षक की नौकरी छोड़कर खेती को रोजगार का जरिया बनाया है। उन्होंने अपने 9 एकड़ की जमीन को फूड फॉरेस्ट में बदल दिया है और वहाँ अब प्राकृतिक तरीके से खेती कर रहे हैं।
  2. श्याम इन दिनों लीची, आम, अनार, नींबू, केला, पपीता, नाशपाती जैसे 45 फलदार पेड़ों के साथ पारंपरिक फसलों की खेती भी कर रहे हैं। इनके खेत में आपको धान-गेहूँ, दाल के अलावा हल्दी, अदरक की खेती भी देखने को मिलेगी।
  3. श्याम ने द बेटर इंडिया को बताया, “यह बात 1991 की है। मेरे पिता जी और चाची जी, दोनों की मौत कैंसर से हो गई थी। उस वक्त मुझे विचार आया कि आधुनिक कृषि तकनीकों की वजह से कई जहरीले रसायन हमारे खान-पान के जरिए शरीर को नुकसान पहुँचा रहे हैं। इसी जद्दोजहद में मैंने शिक्षक की नौकरी को छोड़ प्राकृतिक खेती शुरू कर दी।”
  4. वह आगे बताते हैं, “मैं लगभग 25 वर्षों से गन्ना, धान, गेहूँ जैसे फसलों की ही खेती कर रहा था। लेकिन मैं 2017 में, पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किसान सुभाष पालेकर जी से मिला और लखनऊ में उनके एक हफ्ते के प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लिया। यहाँ मैंने खेती के फाइव लेयर मॉडल के बारे में जानकारी हासिल की।”

(The Better India, 28 October 2020) News Link

  • India Imports 80% of Its Orchids. Meet the Telangana Farmer Changing This

Key points:

  1. Orchids are aesthetically pleasing flowers that are often used to decorate wedding venues in India. But, did you know that 80 percent of orchids sold in the country are imported from Thailand? Samir Baghat, a successful Telangana industrialist with a steel and iron manufacturing business, has decided to slowly change that by growing these flowers on his farm in Sangareddy district, Telangana.
  2. Samir and his relative Praveen Gupta decided to venture into the agri-business because they wanted to try something new and were always fond of growing plants.
  3. In 2015, they purchased eight acres of land in Sangareddy, which they named Mistwood Farms, and started to experiment with growing vegetables such as zucchini and fruits like pomegranate. However, the experiment failed because the soil was predominantly black and did not support the healthy growth of crops.
  4. “In 2016, while thinking about what I could grow without soil, I came across a farmer in Raipur who was growing orchids and was reaping decent profits by selling the cut flowers in the local flower market. These plants are not grown in soil but in another medium made of cocopeat predominantly. So I decided to try my hand at orchids too and did research online about how I could grow them in Telangana,” says Samir, adding that he did 90 percent of his research on the internet and ordered tissue cultured saplings of the Dendrobium variety of orchids in various colours from Thailand.
  5. The saplings were planted in pots with a mix of cocopeat and charcoal.“The first few were a failure,” recalls Samir. “Either they did not grow or did not produce flowers. But, after further research and providing extra care in terms of humidity and moisture, within 45-days we were successfully able to produce flowers. The flowers need a temperature of 20 degree Celsius and humidity of 80 percent to grow. So, I approached the horticulture department in Telangana to request their help to set up a polyhouse, on my farm, to regulate the temperature conditions. I also explained about the process of growing it and how if done on a large scale, it could generate profit as there were not many producers in India,” says Samir.

(The Better India, 28 October 2020) News Link

  1. एक कप चाय से भी कम कीमत में सैनिटरी नैपकिन बना, हज़ारों महिलाओं को दी सुरक्षा और रोज़गार

Key points:

  1. समाज में माहवारी को लेकर हमेशा ही एक दकियानूसी सोच रही है, लेकिन आज हम आपको उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शख्स से मिलाने जा रहे हैं, जिसने न केवल गरीब महिलाओं के लिए सस्ते सेनिटरी नैपकिन बनाए हैं, बल्कि अपने अभिनव प्रयासों के जरिए देश के कई हजारों महिलाओं को रोजगार भी प्रदान कर रहे हैं।
  2. मिलिए, उत्तर प्रदेश के वृंदावन के रहने वाले वैज्ञानिक और उद्यमी महेश खंडेलवाल से, जिन्होंने बेहद सस्ते सेनिटरी नैपकिन बनाकर न सिर्फ कमजोर तबके के महिलाओं को माहवारी के मुश्किल दिनों में स्वच्छता संबंधी चिंताओं का ध्यान रखने के लिए प्रेरित किया, बल्कि उन्हें आर्थिक रूप से सबल भी बनाया।
  3. दरअसल, यह बात साल 2014 की है, जब उनकी मुलाकात मथुरा के तत्कालीन जिलाधिकारी बी. चंद्रकला से हुई। इस दौरान डीएम बी. चंद्रकला ने उन्हें ग्रामीण तबके के महिलाओं को माहवारी के दौरान होने वाली पीड़ा के बारे में बताया। उनकी इस बात का महेश खंडेलवाल पर काफी गहरा असर हुआ।
  4. इसके बाद, लोगों द्वारा मजाक बनाए जाने के बाद भी उन्होंने न सिर्फ बाजार में उपलब्ध सेनिटरी नैपकिन के मुकाबले बेहद सस्ता और पर्यावरण के अनुकूल पैड बनाने की जिम्मेदारी उठायी, बल्कि अपने नए-नए तकनीकी प्रयोगों से जमीनी स्तर पर एक बड़े बदलाव की मुहिम छेड़ दी।
  5. इसके बारे में महेश ने द बेटर इंडिया को बताया, “आज देश की करोड़ों महिलाओं को सेनिटरी नैपकिन की जरूरत पड़ती है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी सेनिटरी नैपकिन को व्यवहार में नहीं लाया जाता है, जिससे कई स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं उभर रही हैं। मेरा उद्देश्य एक ऐसे उत्पाद को विकसित करने का था, जिसे स्थानीय महिलाओं द्वारा निर्मित किया जा सके।”

(The Better India, 28 October 2020) News Link

  1. IIT-Khargpur Innovates New Vegetable Oil Packed With Nutrients For the Same Cost

Key points:

  1. The vegetable oil in our kitchens may soon be replaced with a healthier blend. The same solution could also turn into a healthier alternative for solid fats in dairy products, in the form of powdered vegetable oil consumables. All of that thanks to an award-winning innovation by IIT-Kharagpur researchers, that promises healthy vegetable oil rich in antioxidants and low on saturated fat.
  2. Researchers at IIT-Kharagpur claim their patented blend of oils, which is mixed with market-available vegetable oil, makes it low on cholesterol, trans and saturated fats.
  3. “The proportion of saturated fats varies in the content. However, our oil is endowed with natural antioxidants along with the right proportion of polyunsaturated and monounsaturated fatty acids. They are commonly known as (MUFA & PUFA),” says Hari Mishra, Department of Agricultural and Food Engineering.
  4. Hari, who heads the project, said the oils are carefully chosen and blended in a particular proportion, combined with patented technology, making it a good replacement for existing vegetable oils. The team bagged the Gandhian Young Technological Innovation (SITARE-GYTI) Award 2020 for this new oil. (The Better India, 28 October 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 17th 2020

  1. Meet 5 Dalit feminist writers who are sparking conversations on casteism in the country

Key points:

  1. Gender and identity politics is important while discussing the experiences of Dalit women in the country. Here are five women who are taking the conversations forward with their writings.
  2. Despite many developments and rise in the standard of living, India is not too modern to believe and practice equality for all, as enshrined in the constitution of the world’s largest democracy. In many parts of India, society does not see lower castes and Dalit people as equals. They are bound by traditional roles they are supposed to play in a society, according to ancient texts. Discussions around caste-based atrocities became a pressing issue after four upper caste men were accused of raping a 19-year-old Dalit woman who succumbed to her injuries. The victim’s body was cremated by the police without her family’s consent and this created a huge furore.
  3. Many argue that the horror of injustice goes to show a lack of dignity and exploitation of lower caste people, especially women in India.

(Your Story, 17 October 2020) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • बेंगलुरु: नारियल की सूखी पड़ी पत्तियों से हर रोज़ 10,000 स्ट्रॉ बनाता है यह स्टार्टअप

Key points:

  1. Evlogia Eco Care, बेंगलुरू की एक स्टार्टअप कंपनी है। इसकी शुरूआत 2018 में हुई थी। यह संस्था नारियल के सूखे पत्तों से ‘Kokos Leafy Straws’ नाम से पर्यावरण के अनुकूल स्ट्रॉ बनाती है।
  2. कच्चे माल को तैयार करने से लेकर अंतिम उत्पाद की पैकेजिंग तक का पूरा काम महिलाएं ही करती हैं। मणिगंदन कहते हैं कि स्ट्रॉ को आधे घंटे तक गर्म पेय पदार्थों में और 6 घंटे तक ठंडे पेय पदार्थों में रखा जा सकता है।
  3. स्टार्टअप के संस्थापक मणिगंदन कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम कर चुके हैं। 2016 में उन्होंने कॉर्पोरेट सेक्टर छोड़कर उद्यमी बनने का फैसला किया। उस दौरान उन्होंने टेनको नाम की एक कंपनी शुरू की। यह कंपनी नारियल को ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों पर बेचती थी।
  4. मणिगंदन ने कंपनी की स्थापना 2018 में अपनी पत्नी राधा मनीगंदन के साथ मिलकर की थी। इस दंपत्ति ने हिंदुस्तान पेट्रोलियम द्वारा समर्थित सीड इनवेस्टमेंट से इसे स्थापित किया था। जनवरी 2019 में केवल एक कर्मचारी के साथ स्ट्रॉ का उत्पादन शुरू हुआ। आज इस कंपनी में 15 कर्मचारी काम करते हैं।
  5. पहले, कंपनी 100 स्ट्रॉ प्रतिदिन बनाती थी। लेकिन अब हर दिन 10,000 स्ट्रॉ बनाया जा रहे हैं। (The Better India, 17 October 2020) News Link
  • Bengaluru Startup’s ‘Charzer’ Lets Electric Bikes Charge in Stores For Rs 25/Hour

Key points:

  1. By the end of October 2020, 100 IoT-powered electric vehicle charging stations will go live in Bengaluru, thanks to ‘Charzer’.
  2. By the end of October 2020, 100 IoT-powered electric vehicle charging stations will go live in Bengaluru thanks to ‘Charzer’, a startup established by Sameer and his team in February 2020. Called Kirana Charzers, the Bengaluru-based startup claims these low cost, compact and low maintenance EV charging stations can be installed at small shops and by individuals, which will allow them to earn an additional source of income.
  3. The startup began developing the Kirana Charzer in the middle of last year. After months of research and developing prototypes, they launched the Kirana Charzer in February 2020 at MOVE, a global platform for major players across the transport industry, in London.
  4. “The response there was overwhelming. In fact, we weren’t ready for it. We had done market surveys and already sold a few Kirana Charzers, but weren’t expecting the sort of response we got there. Before we knew it, our first batch of 200 charging stations was already sold out. We had made only 200 because we didn’t have access to large scale manufacturing. Now, we have orders for 2,000+ Kirana Charzers still pending,” he says.

(The Better India, 17 October 2020) News Link

  • [The Turning Point] Understanding the support agent market led these entrepreneurs to start data ecosystem platform Aiisma

Key points:

  1. The Turning Point is a series of short articles that focuses on the moment when an entrepreneur hit upon their winning idea. Today, we look at Las Vegas-based marketing research startup Aiisma.
  2. Founded in 2018, the startup rewards users for anonymously and consensually sharing their data with businesses to improve their products.
  3. “When we started Aiisma in 2018, we had to zero in on how we can create a tool, an app, a software or a program that returns the power and control of data back to individuals with the ability to decide what data they want to share, when they want to share, and how to monetise,” says Nicholas.
  4. According to the founders, the startup has over 6,000 members at present. The user base is highest in India followed by UAE and then the Philippines.

(The Better India, 17 October 2020) News Link

  • This banking intelligence startup is making due diligence and onboarding simpler for banks and NBFCs

Key points:

  1. Mumbai-based Karza Technologies is an analytics, business intelligence, and automation platform that aggregates and analyses information to provide onboarding, due diligence, monitoring, and skip tracing solutions for the BFSI sector.
  2. Keen to change this, college friends Omkar Shrihatti and Gaurav Samdaria in 2015 started business intelligence solution provider Karza Technologies in Mumbai.
  3. Karza focuses on minimising inefficiencies in the BFSI ecosystem using Big Data and AI. The core problem it solves for includes scattered and unstructured data. The platform collects information from all available scattered data and identifies relevant sets. The data is stitched in one place using a unique identifier, the Karza ID. The dashboard allows clients to view the data in an easy, consumable manner.
  4. Karza processes over 10 million transactions per month and creates custom pricing models, depending on the scope of work involved.

(Your Story, 17 October 2020) News Link

  1. ब्लॉग से शुरू हुई थी तीन दोस्तोंगाथा’, आज करते हैं करोड़ों का कारोबार

Key points:

  1. साल 2013 में सुमिरन ने अपने दोस्त शिवानी धर और हिमांशु खार के साथ मिलकर हैंडिक्राफ्ट को बढ़ावा देने के लिए 5 लाख रुपए की लागत से अपनी ई-कॉमर्स कंपनी ‘गाथा’ को शुरू किया था। आज यह कंपनी हर साल करोड़ों का कारोबार करती है।
  2. भारतीय हस्तकला की लोकप्रियता पूरी दुनिया में है, लेकिन हाल के वर्षों में उद्योगों में मशीनों के बढ़ते उपयोग के कारण इसकी चमक फीकी पड़ने लगी है। लेकिन, सुमिरन पांड्या ने भारतीय हस्तकला को बढ़ावा देने के लिए एक ऐसी पहल की शुरूआत की, जिससे कारीगरों को अधिकतम लाभ सुनिश्चित होने के साथ ही वह खुद भी करोड़ों की कमाई कर रहे हैं।
  3. सुमिरन ने अपने दोस्तों के साथ मिल कर जिस कारोबार को महज 5 लाख रुपए से शुरू किया था, उसके जरिए आज वह हर साल करोड़ों की कमाई कर रहे हैं। खास बात यह है कि गाथा ने यह मकाम खुद ही हासिल किया है और उन्हें अब तक किसी निवेशक की जरूरत नहीं पड़ी।
  4. फिलहाल, उनकी कंपनी में 15 से अधिक लोग नौकरी करते हैं, जबकि देश के करीब 400 कारीगर उनसे प्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए हैं। गाथा स्टोर पर साड़ी, होम डेकोर, पेंटिंग्स, श्रृंगार आदि जैसी कई वस्तुएं उपलब्ध हैं।
  5. आज उनके ग्राहक दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरू जैसे देश के कई बड़े शहरों के अलावा, अमेरिका, कनाडा, आस्ट्रेलिया जैसे 20 से अधिक देशों में भी हैं।
  6. सुमिरन कहते हैं, “हमारे कारोबार में सबसे बड़ी चुनौती यह है कि ग्राहकों को असली और नकली हस्तकला के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। आज मशीन से बने हुए कपड़े में और हाथ से बने हुए कपड़े में, फर्क पता नहीं चलता है। लेकिन, मशीन से बने हुए कपड़े की कीमत कम होती है, जिसे वजह से हस्तशिल्प को काफी नुकसान होता है। लेकिन, राहत की बात है कि पिछले कुछ वर्षों में इस क्षेत्र में काफी सुधार हुआ है और हाथ से निर्मित उत्पादों की माँग विदेशों में भी काफी बढ़ी है।“

(The Better India, 17 October 2020) News Link

  • मिलिएमखाना मैन ऑफ इंडियासत्यजीत सिंह से, जिन्होंने बिहार में बदल दी मखाना खेती की तस्वीर

Key points:

  1. मखाना को सुपरफूड के रूप में जाना जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज दुनिया में कुल मखाने का 90 फीसदी उत्पादन बिहार में होता है? बिहार में मखाना खेती को लेकर एक क्रांति की शुरुआत करने वाले सत्यजीत सिंह हैं, जिन्हें ‘मखाना मैन ऑफ इंडिया’ के नाम से भी जाना जाता है। सत्यजीत आज बिहार में 50 फीसदी मखाना उत्पादन के लिए जिम्मेदार हैं और अनुमान है कि वह अगले 2-3 वर्षों में कुल मखाना उत्पादन में 70 से 75 फीसदी योगदान देने में सफल होंगे।
  2. साकेत के अधिकांश किसान साथी गेहूँ और धान की खेती करते हैं, लेकिन उन्होंने मखाना की खेती करने का फैसला किया। इससे साकेत को न सिर्फ अपने परिवार को कर्ज से उबारने में मदद मिली, बल्कि अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने में भी मदद मिली।
  3. साकेत मखाना के बीज को बेच कर सालाना 3.5 लाख रूपये कमाते हैं और फिर बचे हुए बीजों को कुछ दिनों के बाद 30% अधिक मूल्य पर बेचते हैं। इस तरह हर साल उन्हें  4.5 लाख रूपए की कमाई होती है।
  4. शक्ति सुधा के प्रयासों से, स्थानीय बाजारों में मखाने का दाम  40 रुपये प्रति किलोग्राम से बढ़कर 400 रुपये प्रति किलो हो गया। फलस्वरूप, जो पहल महज 400 किसानों के साथ शुरू हुआ था, आज उससे 12,000 से अधिक किसान जुड़ चुके हैं।
  5. सत्यजीत कहते हैं कि यह हमारे शोध कार्यों का नतीजा है कि शक्ति सुधा इस बदलाव को लाने में सक्षम हुई। इससे मखाना को सिर्फ स्नैक्स के बजाय एक सुपरफूड के रूप में बाजार में लाने में मदद मिली है। गत 19 वर्षों के दौरान मखाना बिहार के किसानों के लिए एक नकदी फसल के रूप में विकसित हुआ है। शायद यह इसी का नतीजा है कि जहाँ पहले सिर्फ 1,500 हेक्टेयर जमीन पर मखाने की खेती होती थी अब 16,000 हेक्टेयर पर होती है। सत्यजीत का अंदाजा है कि अगले वर्ष तक बिहार में 25,000 हेक्टेयर जमीन पर मखाने की खेती होगी।

(The Better India, 17 October 2020) News Link

  • हैदराबाद: मंदिरों से फूल इकट्ठा कर उनसे अगरबत्ती, साबुन आदि बना रहीं हैं ये सहेलियाँ

Key points:

  1. हैदराबाद में रहने वाली माया विवेक और मीनल दालमिया, Holy Waste ब्रांड के अंतर्गत फूलों को प्रोसेस करके अगरबत्ती, धूपबत्ती, खाद और साबुन जैसे उत्पाद बना रहीं हैं!
  2. माया और मीनल ने सबसे पहले एक मंदिर में बात की और वहाँ से फूल आदि को इकट्ठा करके घर पर लाने लगीं। उन्होंने पहले अपने घर पर इनकी प्रोसेसिंग की। जैविक खाद बनाना उन्हें आता था इसलिए इसमें ज्यादा परेशानी नहीं हुई। इसके बाद उन्होंने अगरबत्ती बनाने पर काम किया। घर पर वह छत पर फूलों को सुखातीं और फिर इन्हें मिक्सर में पिसती और फिर आगे की प्रक्रिया करतीं। एक-दो बार के ट्रायल से जब वह अगरबत्ती बनाने में सफल रहीं तो उन्होंने इसमें आगे बढ़ने की सोची।
  3. सभी मंदिरों में उन्होंने अपने डस्टबिन रखवाए हुए हैं और इन्हें प्रोसेसिंग यूनिट तक लाने के लिए कामगार लगाए हैं। मंदिरों के अलावा शादी-ब्याह जैसे आयोजनों में भी बचने वाले फ्लोरल वेस्ट को वह इकट्ठा करके प्रोडक्ट्स बनाने में लगा रही हैं। हर दिन वह लगभग 200 किलो फ्लोरल वेस्ट को नदी-नाले में जाने से रोक रही हैं।
  4. उनके स्टार्टअप को हैदराबाद के संगठन, a-IDEA (Association for Innovation Development of Entrepreneurship in Agriculture) द्वारा इन्क्यूबेशन मिला है। पिछले साल, उन्हें ग्रीन इंडिया अवॉर्ड्स 2019 के इको-आइडियाज के अंतर्गत बेस्ट ग्रीन स्टार्टअप अवॉर्ड भी मिला है।
  5. माया कहतीं हैं कि उनका उद्देश्य हमेशा से लोगों और पर्यावरण के लिए कुछ करने का था। इस स्टार्टअप के ज़रिए वह पर्यावरण के लिए भी काम कर रही हैं और साथ ही, ग्रामीण, ज़रूरतमंद महिलाओं को काम देकर समाज के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी निभा रही हैं।

(The Better India, 17 October 2020) News Link

  • दादी का बनाया खाना लोगों तक पहुँचाने के लिए छोड़ी नौकरी, अब 1.5 करोड़ रुपये है सालाना आय

Key points:

  1. दादी-चाची के हाथों से बने भोजन का स्वाद ही कुछ और होता है। इसी स्वादिष्ट स्वाद को घर-घर तक पहुँचाने के लिए मुरली गुंडन्ना ने बेंगलुरु में अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ने का फैसला किया। उन्होंने “फ़ूड बॉक्स” नाम से एक स्टार्टअप की शुरूआत की जहाँ से घर का पका खाना लिया जा सकता है।
  2. मुरली कहते हैं, “मेरे बॉस ने इसे बहुत ही सकरात्मक तरीके से लिया और उन्होंने मुझे तीन महीने पेड लीव देने की पेशकश की।” उन्होंने सप्ताह में 10 फूड बॉक्स बेचने से शुरूआत की और अब वह एक दिन में हज़ारों फूड बॉक्स बेचते हैं। मुरली इसका श्रेय अपनी दादी और चाची को देते हैं। मुरली के स्टार्टअप की यह कहानी बड़ी दिलचस्प है।
  3. शुरूआती दिनों में मुरली एक दिन में 15-20 बॉक्स बेचते थे जबकि आज की तारीख में वह एक हफ्ते में 2,000 बॉक्स बेचते हैं।
  4. इस बिजनेस को शुरू हुए पाँच साल हो चुके हैं। अब फूड बॉक्स के साथ 27 पेशेवरों और रसोइयों की एक टीम है। ग्राहकों की संख्या 30 हजार के करीब पहुँच चुकी है।
  5. एक बिजनेस जिसके लिए शुरूआती हफ्तों के लिए किराने का सामान खरीदने के अलावा कोई निवेश नहीं किया गया था और छह महीने तक जिसका मुनाफा शून्य रहा, अब एक साल में लगभग 1.5 करोड़ रुपये का राजस्व कमाता है।

(The Better India, 17 October 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 16th 2020

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • Bengaluru startup Meta16Labs is helping semi-urban and rural areas get access to healthcare services

Key points:

  1. Meta16Labs’ core product MyTeleOPD is a digital clinic and telemedicine service platform, which connects doctors from across the country with patients from the rural and/or semi urban areas.
  2. Tapping into the growing segment, Bengaluru-based Meta16Labs Healthcare and Analytics Private Limited (m16labs) is looking to make healthcare solutions accessible to everyone, especially in semi-urban and rural areas. (Your Story, 16 October 2020) News Link
  • [Startup Bharat] Lucknow-based Dectrocel Healthcare and Research’s AI tool can screen COVID-19 for just Rs 100

Key points:

  1. The startup has developed an AI screening tool that can detect COVID-19 through real-time chest X-ray images and can diagnose conditions like COVID-19 induced pneumonia and other related problems.
  2. The startup aims to bring personalised medicine and evidence-based medicine to India, and is also looking to minimise the doctor-patient ratio in the country.
  3. The startup has developed a range of solutions to provide speciality healthcare for the bottom of the pyramid at just Rs 100.
  4. For COVID-19, the team has developed an AI screening tool, which can detect COVID-19 through real time chest X-ray images. It can diagnose conditions like COVID-19 induced pneumonia, round glass opacities and consolidation, lesion localisation in the lung parenchyma with COVID-19 risk and affected area estimate without the intervention of a human being.

(Your Story, 16 October 2020) News Link

  • 3 Friends Quit 9-5 Jobs to Start Trekking Company, Earn Rs 1 Crore in Turnover

Key points:

  1. The monotony of their 9-5 jobs made three friends launch Trekmunk, a travel company that organizes offbeat treks and mountaineering expeditions.
  2. During their one-month long journey, the duo made plans about what they could do to earn money while pursuing their passion. They came up with the idea of ‘Trekmunk’ – a tour agency that would organise offbeat treks for groups. In November 2016, once they returned to Delhi after their trip, they officially registered their startup and roped in Mohit, who too quit his job with the Rishikesh-based tour agency. The three pooled in money from their savings and rented office space in Delhi.

(The Better India, 16 October 2020) News Link

  1. GoI bans import of ACs to make India Aatmanirbhar; opens alcohol-based hand sanitisers for exports

Key points:

  1. This step by the Indian government will prove to be a major setback for countries like China and Thailand which are one of the top exporters of air conditioners in the world.
  2. In a major move to boost India’s domestic manufacturing which is critical to the success of the Aatmanirbhar Bharat campaign, the Indian government has banned the import of air conditioners with refrigerants. A circular which was issued by the Director General of Foreign Trade (DGFT) on Thursday read, “Import Policy of Air Conditioners with refrigerants under HS codes 84151010 and 84151090 is amended from ‘Free’ to ‘Prohibited.’ This issues with the approval of Minister of Commerce and Industry.” This applies to the split systems and other ACs with refrigerants.
  3. India’s manufacturing and services sector contributes almost 30 percent to the country’s growth. Although the coronavirus pandemic brought the manufacturing sector to its knees, the government has been taking steps to revive the sector. The one scheme that really stood out was the Rs 3 lakh-crore collateral-free loan.

(Your Story, 16 October 2020) News Link

  1. 12 वीं की छात्रा गुनीशा अग्रवाल गरीब स्टूडेंट्स को मुफ्त बांट रहीं लैपटॉप और स्मार्टफोन, अपनी मां से प्रेरित होकर शुरू किया ये नेक काम

Key points:

  1. कोरोना महामारी की वजह से ऐसे कई गरीब स्टूडेंट हैं जिनके लिए ऑनलाइन पढ़ाई करना बिल्कुल भी आसान नहीं हैं। कहीं इंटरनेट कनेक्शन की दिक्कत है तो कहीं लैपटॉप और स्मार्टफोन जैसे डिवाइस खरीद पाना भी इन स्टूडेंट्स के लिए मुश्किल है। ऐसे स्टूडेंट्स की मुश्किलें चेन्नई की गुनीशा अग्रवाल ने कम की हैं। गुनीशा इन्हें मुफ्त में लैपटॉप और स्मार्टफोन बांट रही हैं।
  2. गुनीशा अग्रवाल 12वीं कक्षा की छात्रा हैं। वे चेन्नई पुलिस कमिश्नर महेश कुमार अग्रवाल की बेटी हैं। गुनीशा को इस काम की प्रेरणा अपनी मां से मिली। एक बार गुनीशा ने देखा कि उनकी मां ने घर में काम करने वाली एक बाई की बेटी को लैपटॉप दिया ताकि वह ऑनलाइन क्लास में हिस्सा ले सके।
  3. तभी गुनीशा को इस बात का ख्याल आया कि अपनी मां की तरह उसे भी जरूरतमंद स्टूडेंट्स की मदद करना चाहिए। जब गुनीशा ने इन स्टूडेंट्स को फ्री में यूज्ड लैपटॉप और स्मार्टफोन देने की शुरुआत की। इतना ही नहीं जरूरतमंद छात्रों की मदद करने के लिए गुनीशा ने एक वेबसाइट भी बनाई है
  4. चेन्नई और उसके आसपास के क्षेत्र के ऐसे कई लोग हैं जो गुनीशा की इस काम में मदद करने के उद्देश्य से उन्हें ये डिवाइस डोनेट कर रहे हैं। साथ ही गुनीशा की मदद के लिए आईटी कंपनी, थिंकफिनिटी एंड कंसल्टिंग ने भी पहल की है। इस कंपनी ने गुनीशा के लिए 50,000 में बनने वाली वेबसाइट को फ्री में बनाया है। इसी कंपनी के कई टेक्निकल एक्सपर्ट स्टूडेंट्स को दिए जाने वाले पुराने डिवाइस का ऑनलाइन क्लासेस के हिसाब से फार्मेट करते हैं।

(Dainik Bhaskar, 16 October 2020) News Link

  1. गंगा किनारे बासी फूलों से तैयार करते हैं अगरबत्ती और शॉवर जेल, हर महीने करते हैं 2 लाख रुपए का बिजनेस

Key points:

  1. फरीदाबाद के रहने वाले 27 साल के रोहित प्रताप ने ऋषिकेश में 10 लाख रुपए की लागत से प्लांट लगाया है
  2. रोहित कहते हैं- फ्लावर वेस्ट मैनेजमेंट से तीर्थ नगरी का प्रदूषण भी कम होता है और बासी फूलों के इस्तेमाल से अगरबत्ती भी तैयार होती है
  3. फ्लावर वेस्ट कलेक्शन के लिए 12 मंदिर, 2 घाट के पास रखवाए हैं ड्रम, यहां रोजाना 500 किलो वेस्ट इकट्ठा होता है

(Dainik Bhaskar, 15 October 2020) News Link

Rising Bharat Swadeshi News Feed: October 10th 2020

  • Vaccine development
  1. देसी कोरोना वैक्सीन को जल्द मिल सकती है तीसरे चरण के ट्रायल की इजाजत, जानें कब मिलेगा कोरोना का तोड़

Key points:

  1. सूत्रों के अनुसार, ‘कोवैक्सीन’ टीका के दूसरे चरण का परीक्षण चल रहा है और कुछ स्थानों पर स्वयंसेवियों को दूसरी खुराक अभी नहीं दी गई है। एक अधिकारी ने बताया कि कंपनी ने पहले और दूसरे चरण के ट्रायल के अंतरिम आंकड़ों के साथ तीसरे चरण के परीक्षण के लिए ‘प्रोटोकॉल’ पेश किया। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) की विशेषज्ञ समिति (SECS) ने पांच अक्टूबर को आवेदन पर विचार-विमर्श किया। समिति ने विस्तृत विचार-विमर्श के बाद कहा कि तीसरे चरण के अध्ययन का डिजाइन सिद्धांत रूप में संतोषजनक है, सिवाय बिना लक्षण वाले की परिभाषा पर स्पष्टीकरण के।

(Navbahrat Times, 10 October 2020) News Link

  • Onion export and Import
    • सरकार ने दी चुनिंदा प्याज के निर्यात की इजाजत, अगले वर्ष 31 मार्च तक के लिए है अनुमति

Key points:

  1. सरकार  ने प्याज के निर्यात पर पिछले महीने लगाई गई पाबंदी में ढील देते हुए बंगलोर रोज और कृष्णापुरम किस्म के प्याज के निर्यात की अनुमति दे दी है। हालांकि, इस छूट के साथ निर्यात के लिए कुछ शर्तें भी जोड़ी गई हैं। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने एक अधिसूचना में शुक्रवार को कहा कि बंगलोर रोज और कृष्णापुरम प्याज की 10,000 टन मात्रा के निर्यात की इजाजत दी जा रही है।
  2. यह इजाजत तत्काल प्रभाव से अगले वर्ष 31 मार्च तक के लिए वैध रहेगी। इसके अलावा एक शर्त यह भी है कि निर्यात सिर्फ चेन्नई बंदरगाह से किया जाएगा।
  3. सरकार ने 14 सितंबर को प्याज के निर्यात पर पाबंदी लगा दी थी, ताकि घरेलू बाजार में इसकी आपूर्ति बढ़ाई जा सके और दरों में तेज उछाल पर लगाम लगाई जाए। कर्नाटक के किसानों ने सरकार से 10,000 टन बंगलोर रोज किस्म के प्याज के निर्यात की छूट दिए जाने की अपील की थी, क्योंकि घरेलू बाजार में इस प्याज की मांग नहीं है।
  4. इसकी मांग मलेशिया, सिंगापुर, ताइवान और थाइलैंड जैसे एशियाई देशों में ज्यादा है। बंगलोर रोज प्याज के निर्यातकों को कर्नाटक सरकार के बागवानी आयुक्त से वस्तु और उसकी मात्रा का प्रमाणपत्र लेना होगा। इसी प्रकार कृष्णापुरम प्याज के निर्यातकों को यह प्रमाणपत्र आंध्र प्रदेश की सरकार देगी। (Amar Ujala, 9 October 2020) News Link
  1. ‘Haven’t Taken a Day off’: Doc Who Treated 1000+ COVID Cases Shares How He Copes

Key points:

  1. The 55-year-old doctor says the last few months, since the COVID-19 pandemic broke, have felt like nothing short of a war zone.
  2. It is this kind selfless service that earns doctors our unwavering respect; they fight to take care of the mental and physical health of their patients, offering support and willing them to get better too.  But how many of us see the person behind the white-coat, or in these days, inside the PPE kit. What is their mental state like? Who do the caregivers turn to for their own care?
  3. But in war there are casualties – physical, mental and emotional. Speaking about the physical toll that this pandemic has taken on him, he says, “There is no denying that much has changed because of this situation. I have lost close to eight kilograms since the beginning of the lockdown, and the sleepless nights and fatigue are almost constant companions,” he says.
  4. Dr. Goel monitors each COVID patient of his round-the-clock with an electronic system. “I have set up a work station at home and I ensure that each aspect of my patients is monitored. When we see some vitals off the chart we take corrective measures immediately,” he says.

(The Better India, 10 October 2020) News Link

  1. यूरोप की यात्रा ने बदला मन तो दिल्ली की ग्लैमरस लाइफ छोड़ गाँव में शुरू कर दी सेब की खेती

Key points:

  1. गोपाल इन दिनों अपने आठ एकड़ के बगीचे से लाखों की कमाई कर रहे हैं। इसके अलावा पाँच एकड़ में उन्होंने हल्दी और अदरक उगाया है। इसके साथ ही 7.1 फीट ऊंचा धनिया उगाकर उन्होंने गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में भी नाम दर्ज करवाया है। गोपाल को उत्तराखंड सरकार ने उद्यान पंडित और देवभूमि पुरस्कार से भी सम्मानित किया है।
  2. गोपाल अब हल्दी का प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की तैयारी कर रहे हैं। वह अपने खेत में उगाई गई हल्दी को खुद प्रोसेस करके बेचना चाहते हैं। वह दावा करते हैं कि उनका सेब का बगीचा उत्तराखंड का पहला आर्गेनिक सर्टिफाइड बगीचा है। वह किसानों को पौध और बीज वितरण भी करते हैं। साथ ही उन्हें बागवानी से जुड़ी तकनीकी जानकारी भी मुहैया कराते हैं। उनका मकसद उत्तराखंड में प्रगतिशील और प्रशिक्षित किसानों को तैयार करना और आगे बढ़ाना है। (The Better India, 10 October 2020) News Link
  • केरल के पूर्व इंजीनियर ने लॉकडाउन में शुरू कर दी गेंदे की खेती, हर महीने कमा रहे हैं 35 हजार रुपये

Key points:

  1. केरल के अरनमुला के रहने वाले 72 वर्षीय एन.के. कृष्णन नायर अपने खेतों से हर दिन लगभग 15-20 किलो गेंदे का फूल तोड़ते हैं। इन फूलों को बेचकर वह हर महीने करीब 35,000 रुपए कमा लेते हैं।
  2. बेंगलुरु के पास होसुर के अपने दोस्तों से संपर्क कर कृष्णन नायर ने उनसे गेंदे के लगभग 1,000 पौधे लिए। उन्होंने उनसे खेती के बारे में सलाह और जानकारी भी इकट्ठा की।
  3. कृष्णन नायर के खेत से हर दिन लगभग 15-20 किलोग्राम गेंदे के फूल निकलने लगे। इन्हें वह बाजारों में बेचकर हर महीने लगभग 35,000 रुपये की कमाई करने लगे। पिछले कुछ महीनों में कोझेनचेरी, पठानमथिट्टा के फूल विक्रेता हर दिन उनके खेत से फूल खरीदते हैं। (The Better India, 10 October 2020) News Link
  • Kerala Man’s New Jackfruit Flour Helps Control Diabetes, Bags National Award

Key points:

  1. Jackfruit is now clinically proven to reduce blood sugar levels and help reverse diabetes. According to a study published by the American Diabetes Association, it brings down glycosylated haemoglobin (HbA1c), fasting blood glucose (FBG), and postprandial glucose (PPG).
  2. The conclusion of the study is based on a randomized, double-blind design where 20 of the 40 participants with type 2 diabetes (T2DM) were given 30 grams of green flour made from jackfruit for three months. The rest used regular wheat or rice flour to make rotis or idlis.
  3. At the end of the study, that was approved by the Indian Council of Medical Research (ICMR), it was found that people who mixed flour in their idli batter or wheat dough showed improvement in their plasma glucose levels.
  4. James Joseph, the founder of Jackfruit 365, a company that sells the fruit in a freeze-dried form, is the brain behind this new study. His 8-year-old company sells frozen jackfruit, which has a better shelf life and goes back to its original form if soaked in lukewarm water.
  5. The 49-year-old recently received a National Startup India award, for ‘Food’ in the category ‘Food Processing’ for his new product – a green jackfruit flour.

(The Better India, 10 October 2020) News Link

  • Startup in Bharat by Bhartiya
    • This bootstrapped startup is helping companies invest in social capital to see success

Key points:

  1. Orglens has created a platform to help organisations analyse and visualise the informal networks, which will help with strategy, engagement, execution challenges, collaboration, etc.
  2. Orglens uses its technology platform to visualise and analyse the informal networks in organisations and helps make decisions and insights on strategy, engagement, execution challenges, innovation potential culture, inclusion, collaboration, and high potential employees.
  3. “Orglens helps understand the energy flow and acupressure points in organisations, particularly those with many degrees of complexity. Till now, other than the organisation structure and chart, we had no tool to visualise the complex adaptive organisation,” says Santhosh.
  4. In the past one year, Orglens has done ‘organisation network analysis’ for companies like Nestle, PropTiger, Bharat Serums and Vaccines, Sterlite Power, Western Digital, etc, and plans to have 100 clients this year.
  5. To understand these connections, Orglens first understands the business context and then discusses and decides on the scope and timelines of the project. It then starts collecting data from employees through an online survey.

(Your Story, 10 October 2020) News Link

  • [The Turning Point] Personal pain points led this entrepreneur to launch business communication startup Telebu

Key points:

  1. The Turning Point is a series of short articles that focuses on the moment when an entrepreneur hit upon their winning idea. Today, we look at Telebu, a Hyderabad-based UCaaS company that offers a plug-and-play solution to startups, SMEs, and enterprises.
  2. It may have started as an SMS company, but over the years Telebu kept evolving and adding new products to its portfolio, across voice, chat, video, APIs, and SDKs. Most products were based on a pain point Telebu faced as an organisation or a pain point its customers faced.
  3. Telebu has also developed an AI-powered chatbox, Telebu Pop, which is aimed at automating responses for its website customers and helping the Telebu team understand intent, user behaviour, and actions, and help qualify prospects into leads.
  4. With offices in Hyderabad, Mumbai, Pune, Chennai, Bengaluru, Kolkata, Delhi NCR, and Gulf Coast countries, Telebu claims to serve more than 100,000 customers and over 1,000 enterprises.

(Your Story, 10 October 2020) News Link

  1. India donates 1.8 million N95 masks to Philadelphia city in US

Key points:

  1. India has donated 1.8 million N95 masks to Philadelphia, the largest city in the US state of Pennsylvania, to help in its fight against COVID-19, setting another example of a robust Indo-US partnership in the health sector.
  2. Philadelphia is the sixth-most populous US city.
  3. The move is also an indication of India”s capabilities in manufacturing Personal protective equipment (PPE) not only for domestic use, but also exports, officials said.
  4. India had also supplied hydroxychloroquine, an anti-malaria drug which is seen as a possible cure for COVID-19, to the US at the request of President Donald Trump. PTI LKJ SCY SCY

(Outlook India, 10 October 2020) News Link